नीति आयोग के CEO बने रहेंगे अमिताभ कांत, सरकार ने दिया 2 साल का सेवा विस्तार

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत स्थिर, उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने एम्स पहुंचकर डॉक्टरों से ली तबीयत की जानकारी

कश्मीर मुद्दे पर रूस ने किया भारत का समर्थन, कहा- संविधान के दायरे में हुआ फैसला

आर्टिकल 370: पाकिस्तान ने अब रोकी समझौता एक्‍सप्रेस की सेवा, भारत ने भेजा इंजन, वापस आई ट्रेन

आर्टिकल 370 हटाए जाने को लेकर आज शाम 8 बजे देश को संबोधित करेंगे पीएम मोदी

धारा 370 हटाने के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का जल्द सुनवाई से इनकार

अजित डोभाल के कश्मीरियों से मिलने पर तिलमिलाए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, कहा- पैसे देकर आप किसी को भी साथ ले सकते हो

2019-06-26_AmitabhKant.jpeg

सरकारी थिंक टैंक नीति आयोग के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अमिताभ कांत अपने पद पर अब दो साल और बने रहेंगे. एक आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि अमिताभ कांत को नीति आयोग के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी के रूप में दो साल का सेवा विस्‍तार दिया गया है.

कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने कांत के सेवा विस्‍तार को अपनी मंजूरी प्रदान की है. कांत 30 जून 2019 को सेवानिवृत्‍त होने वाले थे, लेकिन अब वे अपने पद पर 30 जून, 2021 तक बने रहेंगे. कार्मिक मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा है कि पुराने नियम व शर्तों के तहत कांत को दो साल का सेवा विस्‍तार दिया गया है.

नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने स्वास्थ्य के मोर्चे पर राज्यों को स्थिति बेहतर करने के लिए उस पर बजट का आबंटन बढ़ाने को कहा. यहां स्वास्थ्य के मोर्चे पर राज्यों की स्थिति पर ‘स्वस्थ्य राज्य, प्रगतिशील भारत’ शीर्षक से रिपोर्ट जारी किए जाने के मौके पर पॉल ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में अभी काफी काम करने की जरूरत है, इसमें सुधार के लिये स्थिर प्रशासन, महत्वपूर्ण पदों को भरा जाना तथा स्वास्थ्य बजट बढ़ाने की जरूरत है. 
 
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को सकल घरेलू उत्पाद का 2.5 प्रतिशत स्वास्थ्य पर खर्च करना चाहिए. राज्यों को स्वास्थ्य पर खर्च औसतन अपने राज्य जीडीपी के 4.7 प्रतिशत से बढ़ाकर 8 प्रतिशत (शुद्ध राज्य घरेलू उत्पाद का) करना चाहिए.



loading...