मोदी सरकार का बड़ा फैसला, ‘सुमन’ योजना के तहत गर्भवती महिलाओं का सारा खर्च उठाएगी सरकार

2019-10-12_PregnentWomen.jpg

केंद्र सरकार ने एक नई योजना की शुरुआत की है. इस योजना का नाम है 'सुमन' योजना. यह योजना 100 फीसदी सुरक्षित मातृत्व का लक्ष्य हासिल करने के लिए शुरू की गई है. दरअसल फिलहाल देश में 80 फीसदी प्रसव को अस्पताल या प्रशिक्षित नर्स की निगरानी में कराया जाता है. लेकिन इस योजना के तहत सरकार इस आंकड़े को 100 फीसदी करना चाहती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस योजना के तहत हर गर्भवती महिला को सुरक्षित मातृत्व की गांरटी दी जाएगी. इतना ही नहीं इसके तहत गर्भवती महिला चार बार मुफ्त इलाज करा सकेगी. इसके अलावा प्रसव के पहले और बाद में मुफ्त एंबुलेंस भी उपलब्ध कराई जाएगी.एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, टोल फ्री नंबर 102 और 108 पर कॉल कर अस्पताल जाने के लिए मुफ्त एंबुलेंस मंगाई जा सकती है. जानकारी के मुताबिक प्रसव के दौरान होने वाले सारे खर्च भी सरकार ही उठाएगी और 6 मीहनों तक मां और बच्चे को मुफ्त में दवाइयां भी मुहैया कराएगी. इसके अलावा नवजात बच्चे के किसी भी तरह की बीमारी से ग्रस्त होने की स्थिति में उसका सारा खर्च भी सरकार ही उठाएगी.

सभी महिलाओं तक इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए सर्विस गारंटी चार्टर' जारी किया गया है. बतया जा रहा है कि दूरदराजों के इलाकों में रहने वाली महिलाओं को इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए विभिन्न सहायता समूहों, स्वच्छता समितियों और एनजीओ की मदद ली जाएगी. वहीं इस योजना का लाभ महिलाओं को पहुंचाने के मामले में किसी भी तरह की लापरवाही के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. मीडिया रिपोर्ट्स मुताबिक सुमन योजना के तहत सरकार का सबसे बड़ा लक्ष्य यही होगा कि पैसे की कमी के कारण किसी महिलाओं को प्रसव के दौरान अस्पताल की सुविधा से वंचित नहीं रहना पड़े



loading...