मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार: टीम मोदी में 19 नए चेहरे

ch.jpg

मंगलवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 19 नए चेहरों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। नरेंद्र मोदी ने  अपनी कैबिनेट में 19 नए मंत्रियों को शामिल किया। एक मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को प्रमोशन दिया गया है। तीन मंत्रियों ने अंग्रेजी में शपथ ली। खबरों के मुताबिक, पांच पुराने मंत्रियों ने पीएम को इस्तीफे भेज दिए हैं। जैसा कि माना जा रहा था कि 75 साल से ऊपर के नेताओं को मंत्री नहीं बनाया जाएगा, ऐसा ही हुआ। महाराष्ट्र से आने वाले आरपीआई नेता रामदास अठावले जब शपथ ले रहे थे तो अजीब हालात बन गए। वो अपना नाम पढ़ना ही भूल गए। राष्ट्रपति ने उन्हें तीन बार टोका। दो बार खुद लाइनें पढ़ीं। शिवसेना कोटे से किसी को मंत्री नहीं बनाया गया है। अब कैबिनेट में मोदी समेत 83 सदस्य हैं। अब सबसे युवा मंत्री अनुप्रिया पटेल हैं। यूपी से सांसद अपना दल की अनुप्रिया 35 साल की हैं। 

मंत्रिपरिषद के विस्तार व फेरबदल में उत्तर प्रदेश का दबदबा और बढ़ने जा रहा है, जबकि उत्तराखंड से पहली बार मोदी सरकार में कोई मंत्री शामिल होगा। इन दोनों राज्यों में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं।

मंत्रिमंडल मै विस्तार से शिवसेना नाराज है, कहा जा रहा था कि फेरबदल में शिवसेना के अनिल देसाई को मोदी मंत्री बना सकते हैं। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। लेकिन, सोमवार को शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनसे कैबिनेट फेरबदल पर कोई बातचीत नहीं की गई। उनके के मुताबिक, शिवसेना भीख नहीं, अपना हक मांग रही है। उन्होंने ये भी कहा कि हमें आधा नहीं बल्कि अपना पूरा हक चाहिए। बता दें कि मोदी सरकार बनने वक्त भी काफी ड्रामा हुआ था। 18 सांसदों वाली शिवसेना की डिमांड ज्यादा थी। लेकिन, सिर्फ अनंत गीते को मंत्री बनाया गया था।

राजस्थान से 3 अर्जुन राम मेघवाल, सीआर चौधरी, पीपी चौधरी। यूपी से 3 अनुप्रिया पटेल, कृष्णा राज, महेंद्रनाथ पांडे। उत्तराखंड से एक को जगह अजय टमटा। एमपी से अनिल माधव दवे, फग्गन सिंह कुलस्ते, एमजे। महाराष्ट्र से सुभाष भामरे, रामदास अठावले। गुजरात से जसवंतसिंह भाभोर, मनसुख मनदाविया, पुरुषोत्तम रूपाला। असम से राजेश और कर्नाटक से राजेश जिगजिगानी



loading...