ताज़ा खबर

ट्रंप की नीतियों की वजह से बिछड़े शरणार्थी बच्चे 4 महीने बाद अपने माता-पिता को नहीं पहचान पाए

पाकिस्तान के क्वेटा शहर की सब्जी मंडी में बम धमाका, 16 की मौत, 30 घायल

Mission Shakti: अमेरिका ने भारत के A-SAT परीक्षण का किया समर्थन, बताया किस वजह से किया टेस्ट

ब्रिटिश पुलिस ने विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को किया गिरफ्तार, वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में होंगे पेश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा- अगर नरेंद्र मोदी फिर से पीएम बनें तो शांति वार्ता के लिए बेहतर मौका होगा

मालदीव में मोहम्मद नशीद की पार्टी एमडीपी को 87 में से 60 सीटें मिली, अब चीन को ऐसे होगी दिक्कत

निसान मोटर्स के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जमानत मिलने के बाद फिर किया गया गिरफ्तार, विश्वास हनन का लगा आरोप

2018-07-11_migrantchildren.jpg

गैर-कानूनी रूप से अमेरिका में रह रहे शरणार्थियों को कैलिफोर्निया की कोर्ट के आदेश के बाद अब उनके बच्चों से मिलाया जा रहा है. इनमें से कई बच्चे अपने माता-पिता को पहचान ही नहीं पा रहे. वे अब तक शिविर में उनकी देखभाल कर रहीं समाजसेविकाओं के पास जाने की जिद कर रहे हैं. चार महीने पहले ट्रम्प प्रशासन ने अवैध तरीके से अमेरिका में प्रवेश करने के आरोप में देश की दक्षिण पश्चिम-सीमा पर 2000 बच्चों को उनके माता-पिता से अलग कर दिया था. हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति पर बाद में दबाव बढ़ा और उन्होंने बच्चों को अलग रखने का फैसला वापस लिया.

मिर्सी अल्बा लोपेज (31) ने कहा, मेरा तीन साल का बेटा करीब चार महीने बाद मेरी गोद में आया, लेकिन वह मुझे पहचान ही नहीं पाया और रोने लगा. कोर्ट में भी वह समाजसेविका के पास जाने की जिद करता रहा. ऐसा ही हाल मिल्का पाब्लो (35) का है. उन्होंने रोते हुए कहा, मेरी तीन साल की बेटी डार्ली मुझे देखकर बेहद डर गई और मुझसे दूर जाने की कोशिश करने लगी. वह जोर-जोर से चिल्लाने लगी और शरणार्थी शिविर में उसकी देखभाल करने वाली महिला को आवाज लगाने लगी.

प्रवासी मामलों के कार्यकारी सहायक निदेशक मैथ्यू अलबेंस ने बताया कि अब गैर-कानूनी रूप से अमेरिका में रह शरणार्थियों को पुलिस के पास रजिस्ट्रेशन कराना होगा. इसके साथ ही उनको पैर में पहनने वाली डिवाइस दे दी जाएगी. इससे उन पर नजर रखना आसान होगा.



loading...