लोकसभा चुनाव: बसपा सुप्रीमो मायावती के इस बार चुनाव लड़ने की उम्मीद कम, अखिलेश संग करेंगी 12 रैलियां

Lok Sabha Eleciton 2019: भाजपा ने जारी की 11 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट, कैराना से हुकुम सिंह की बेटी का टिकट कटा

सैम पित्रोदा के विवादित बयान पर अमित शाह ने कहा- जनता और जवानों से माफी मांगे राहुल गांधी

भारत के पहले लोकपाल बने जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलाई शपथ

इमरान खान का ट्वीट, पाकिस्तान के नेशनल डे पर पीएम मोदी ने भेजा संदेश, भारत का जवाब, ये परंपरा का हिस्सा

पीएम नरेंद्र मोदी ने ब्लॉग लिखकर शहीदों और राम मनोहर लोहिया को किया याद, कांग्रेस पर बोला हमला

आतंकी हाफिज सईद के संगठन के खिलाफ NIA ने दाखिल की चार्जशीट, भारत में करते थे स्लीपर सेल की भर्ती

2019-03-15_maya-up.jpg

इस बार बसपा सुप्रीमो मायावती के चुनाव लड़ने की संभावना कम बताई जा रही है. ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि वे इस बार चुनाव न लड़कर पूरा ध्यान प्रचार पर लगाएंगी. ऐसा भी बताया जा रहा है कि जिन दो सीटों से वह चुनाव लड़ सकती थी उनपर उन्होंने प्रभारी उतार दिए हैं. इस जानकारी से अटकलों को जोर मिल रहा है.

बताया जा रहा है कि नगीना से उन्होंने गिरीश चंद्र जाटव व अंबेडकरनगर से पवन पांडेय चुनाव लड़ सकते हैं. इन दोनों सीटों पर मायावती चुनवा लड़ती आई हैं. इसके साथ ही उन्होंने बुलंदशहर से भी प्रभारी के नाम तय कर दिए हैं.

यूपी में करीब 12 साझा रैलियां मायावती व अखिलेश करेंगे. ऐसा बताया जा रहा है कि साझा रैलियों का कार्यक्रम मायावती द्वारा तैयार किया गया है. इसकी पूरी जानकारी जल्द जारी करने की तैयारी है. सूत्रों के अनुसार 7 अप्रैल को देवबंद में अखिलेश-मायावती की पहली रैली होगी. इसके बाद 8 अप्रैल को मेरठ और 9 अप्रैल को नगीना लोकसभा सीट पर भी ज्वॉइंट रैली होगी. गठबंधन की रैलियों में आरएलडी नेता अजित सिंह और जयंत चौधरी भी शामिल होंगे. लोकसभा में प्रचार के लिए यह उनका चुनावी शंखनाद बताया जा रहा है.



loading...