लोकसभा चुनाव: बसपा सुप्रीमो मायावती के इस बार चुनाव लड़ने की उम्मीद कम, अखिलेश संग करेंगी 12 रैलियां

वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की याचिका को रक्षा मंत्रालय ने किया खारिज, जानें क्या है मामला

कमल हासन ने ‘हिंदू’ शब्द को लेकर दिया विवादित बयान

सरकार के लिए विपक्ष की मोर्चेबंदी, राहुल गांधी से मिले नायडू, शाम को लखनऊ में अखिलेश-मायावती से करेंगे मुलाकात

लोकसभा चुनाव: PM मोदी और अमित शाह को मिली क्लीनचिट से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने EC की मीटिंग से किया किनारा

PM मोदी की 5 साल में पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- फिर बनेगी पूर्ण बहुमत वाली NDA की सरकार

साध्‍वी प्रज्ञा के नाथूराम गोडसे वाले बयान पर पीएम मोदी ने कहा- दिल से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा, अनिल सौमित्र को पार्टी से निलंबित किया

2019-03-15_maya-up.jpg

इस बार बसपा सुप्रीमो मायावती के चुनाव लड़ने की संभावना कम बताई जा रही है. ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि वे इस बार चुनाव न लड़कर पूरा ध्यान प्रचार पर लगाएंगी. ऐसा भी बताया जा रहा है कि जिन दो सीटों से वह चुनाव लड़ सकती थी उनपर उन्होंने प्रभारी उतार दिए हैं. इस जानकारी से अटकलों को जोर मिल रहा है.

बताया जा रहा है कि नगीना से उन्होंने गिरीश चंद्र जाटव व अंबेडकरनगर से पवन पांडेय चुनाव लड़ सकते हैं. इन दोनों सीटों पर मायावती चुनवा लड़ती आई हैं. इसके साथ ही उन्होंने बुलंदशहर से भी प्रभारी के नाम तय कर दिए हैं.

यूपी में करीब 12 साझा रैलियां मायावती व अखिलेश करेंगे. ऐसा बताया जा रहा है कि साझा रैलियों का कार्यक्रम मायावती द्वारा तैयार किया गया है. इसकी पूरी जानकारी जल्द जारी करने की तैयारी है. सूत्रों के अनुसार 7 अप्रैल को देवबंद में अखिलेश-मायावती की पहली रैली होगी. इसके बाद 8 अप्रैल को मेरठ और 9 अप्रैल को नगीना लोकसभा सीट पर भी ज्वॉइंट रैली होगी. गठबंधन की रैलियों में आरएलडी नेता अजित सिंह और जयंत चौधरी भी शामिल होंगे. लोकसभा में प्रचार के लिए यह उनका चुनावी शंखनाद बताया जा रहा है.



loading...