बसपा प्रमुख मायावती ने विपक्षी नेताओं के कश्मीर दौरे पर उठाए सवाल, कहा- जाने से पहले सोचना चाहिए था

कैंट सीओ धमकी मामले में सीएम योगी ने मंत्री स्वाति सिंह को लगाई फटकर, DGP ने मांगी रिपोर्ट

नोएडा में नौकरी की तलाश में आई युवती से 6 लोगों ने किया गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार

यूपी: मृतक के परिजनों से बदसलूकी करने वाले अमेठी के DM पर गिरी गाज, अरुण कुमार नए जिलाधिकारी

यूपी: होमगार्डों की फर्जी हाजिरी और वेतन निकासी में करोड़ों का घोटाला, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी

अयोध्या फैसले के दिन यूपी में हत्या, लूट, अपहरण, डकैती की नहीं हुई कोई भी वारदात, अधिकारियों को भी नहीं हो रहा यकीन

योगी सरकार ने सरकारी राशन की दुकानों पर कंडोम और सैनेटरी पैड बेचने की दी अनुमति

2019-08-26_Mayawati.jpg

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने विपक्ष पर तीखा हमला बोला है. उन्होंने विपक्षी नेताओं के कश्मीर दौरे को लेकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि कश्मीर दौरे पर जाने से पहले विचार करना चाहिए था. 

अंबेडकर देश की एकता और अखण्डता के पक्षधर थे. अंबेडकर भी 370 के पक्ष में नहीं थे. विपक्ष का ये कदम केंद्र को मौका देने जैसा है. सोमवार सुबह मायावती ने ट्वीट कर विपक्षी नेताओं को आड़े हाथों लिया. 

मायावती ने लिखा कि जैसा कि विदित है कि बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे. इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस धारा को हटाए जाने का समर्थन किया.

दूसरे ट्वीट में लिखा, लेकिन देश में संविधान लागू होने के लगभग 69 वर्षों के उपरान्त इस धारा 370 की समाप्ति के बाद अब वहां पर हालात सामान्य होने में थोड़ा समय अवश्य ही लगेगा. इसका थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर है, जिसको माननीय कोर्ट ने भी माना है.

मायावती ने तीसरे ट्वीट में लिखा, ऐसे में अभी हाल ही में बिना अनुमति के कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं का कश्मीर जाना क्या केन्द्र व वहां के गवर्नर को राजनीति करने का मौका देने जैसा इनका यह कदम नहीं है? वहां पर जाने से पहले इस पर भी थोड़ा विचार कर लिया जाता, तो यह उचित होता.



loading...