मंगल पर मिली 20 किलोमीटर चौड़ी पानी की झील, जागी जीवन की उम्मीद

2018-07-26_mars-water.jpg

वैज्ञानिकों को मंगल ग्रह पर तरल अवस्था में पानी की मौजूदगी के सबूत मिले हैं। अनुमान है कि यह झील दक्षिणी ध्रुव पर करीब 20 किलोमीटर के इलाके में फैली है। हालांकि, यह पानी बर्फ की एक किलोमीटर मोटी चट्टान के नीचे हो सकता है। यूरोपीय स्पेस एजेंसी के मार्स एक्सप्रेस ऑर्बिटर ने यह जानकारी दी है। मंगल पर पानी की मौजूदगी तो पहले भी साबित हुई, लेकिन पूरी झील होने होने के सबूत पहली बार मिले। 

ऑर्बिटर के भेजे आंकड़ों का इटली के वैज्ञानिकों ने तीन साल तक अध्ययन किया गया। इस दौरान उन्होंने पाया कि रडार द्वारा भेजी तरंगें बर्फ को तो पार कर रही थीं, लेकिन दक्षिणी ध्रुव के पास जाकर लौट रही थीं। इससे वहां पानी का जलाशय होने की संभावना बढ़ गई।

ओपन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉक्टर मनीष पटेल ने बीबीसी को बताया कि दुनिया में लोग काफी समय से मंगल ग्रह और उसमें जीवन के ना पनपने वाली परिस्थितियों के बारे में जानते हैं। लेकिन पानी के मिलने से अब ग्रह पर जीवन के होने की संभावना तलाशी जा सकती है। हालांकि, उन्होंने पानी की मौजूदगी और जीवन के पनपने के बीच कोई संबंध नहीं बताया। 

 



loading...