ताज़ा खबर

भारी बारिश की वजह से 5 राज्यों में 465 मौतें, यूपी में मरने वाली की संख्या 58 हुईं

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा- अच्छा हिंदू नहीं चाहता अयोध्या में राम मंदिर बने, सुब्रमण्यम स्वामी ने कह दिया नीच आदमी

#MeToo: लपेटे में आए केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने प्रिया रमानी के खिलाफ दर्ज कराया मानहानि का केस

#MeToo: लपेटे में आए केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को इस्तीफा देने का आदेश दे सकती हैं बीजेपी

पीएम मोदी ने पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर वित्त मंत्री अरुण जेटली और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों संग की बैठक

पीएम मोदी 31 अक्तूबर को करेंगे सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण

CJI रंजन गोगोई का नया फैसला, वर्किंग-डे पर जजों की छुट्टी पर लगाया बैन

2018-07-28_HeavyRainUP.jpg

इस साल मानसून सीजन में बाढ़ और बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक पांच राज्यों में 465 लोगों की मौत हुई है. गृह मंत्रालय के एनईआरसी केंद्र से जारी आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 138 मौतें हुईं. उत्तरप्रदेश में पिछले तीन दिन में 58 लोगों ने जान गंवाई है. मौसम विभाग ने सोमवार तक राज्य में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. उधर, हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से यमुना नदी में शनिवार को 3 लाख 11 हजार 190 क्यूसेक पानी छोड़ा गया. दिल्ली में यमुना नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.

गंगा, चंबल और सरयू नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है. मौसम विभाग ने 11 जिलों फैजाबाद, बस्ती, गोरखपुर, संतकबीरनगर, इलाहाबाद, संतकबीरदास नगर, आगरा, मथुरा, बुलंदशहर, रायबरेली और फर्रुखाबाद में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. राहत आयुक्त संजय कुमार ने गुरुवार को बताया कि पिछले दो दिन में भारी बारिश की वजह से 148 मकानों को नुकसान पहुंचा. इनमें से ज्यादातर गिर गए हैं. जिसमे 11 जानवार मारे गए.

एसडीएम (ईस्ट) अरुण गुप्ता ने बताया, हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़ने के चलते यमुना का जल स्तर खतरे के निशान के ऊपर 205.4 मीटर तक पहुंच गया गया. ओल्ड रेलवे ब्रिज के पास के इलाके में लोगों को सलाह दी गई है कि वे नदी के पास न जाएं. न ही अपने बच्चों और पालतू जानवरों को वहां भेजे. निचले क्षेत्रों में एनाउंसमेंट करके लोगों को अलर्ट कर दिया गया है.



loading...