ताज़ा खबर

भारी बारिश की वजह से 5 राज्यों में 465 मौतें, यूपी में मरने वाली की संख्या 58 हुईं

तीन तलाक पर लाए गए दूसरे अध्यादेश को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार का नौकरीपेशा लोगों को बड़ा तोहफा, PF पर मिलने वाली ब्याज दर बढ़ी

कांग्रेस के सवालों पर अमित शाह का पलटवार, कहा- जो पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक को खून की दलाली कहते है वो हमें देशभक्ति न सिखाएं

मोदी सरकार का जवानों के लिए बड़ा फैसला, अब किसी भी यात्रा के लिए हवाई जहाज से आने-जाने की मिलेगी सुविधा

सुप्रीम कोर्ट राफेल सौदे पर दिए अपने फैसले पर समीक्षा करने को तैयार, प्रशांत भूषण ने सरकार पर गलत जानकारी देने का लगाया आरोप

मार्च में इस दिन लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर सकता है चुनाव आयोग

2018-07-28_HeavyRainUP.jpg

इस साल मानसून सीजन में बाढ़ और बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक पांच राज्यों में 465 लोगों की मौत हुई है. गृह मंत्रालय के एनईआरसी केंद्र से जारी आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 138 मौतें हुईं. उत्तरप्रदेश में पिछले तीन दिन में 58 लोगों ने जान गंवाई है. मौसम विभाग ने सोमवार तक राज्य में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. उधर, हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से यमुना नदी में शनिवार को 3 लाख 11 हजार 190 क्यूसेक पानी छोड़ा गया. दिल्ली में यमुना नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.

गंगा, चंबल और सरयू नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है. मौसम विभाग ने 11 जिलों फैजाबाद, बस्ती, गोरखपुर, संतकबीरनगर, इलाहाबाद, संतकबीरदास नगर, आगरा, मथुरा, बुलंदशहर, रायबरेली और फर्रुखाबाद में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. राहत आयुक्त संजय कुमार ने गुरुवार को बताया कि पिछले दो दिन में भारी बारिश की वजह से 148 मकानों को नुकसान पहुंचा. इनमें से ज्यादातर गिर गए हैं. जिसमे 11 जानवार मारे गए.

एसडीएम (ईस्ट) अरुण गुप्ता ने बताया, हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़ने के चलते यमुना का जल स्तर खतरे के निशान के ऊपर 205.4 मीटर तक पहुंच गया गया. ओल्ड रेलवे ब्रिज के पास के इलाके में लोगों को सलाह दी गई है कि वे नदी के पास न जाएं. न ही अपने बच्चों और पालतू जानवरों को वहां भेजे. निचले क्षेत्रों में एनाउंसमेंट करके लोगों को अलर्ट कर दिया गया है.



loading...