पश्चिम बंगाल में नहीं थम रहा हिंसा का दौर, केंद्र सरकार ने जारी की एडवाइजरी, BJP आज काला दिवस मनाएगी

ममता बनर्जी को झटका, इस सप्ताह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं TMC विधायक और पूर्व मेयर सोवन चटर्जी

मिशन 2020 की तैयारी में जुटीं ममता बनर्जी, कहा- सभी पार्टियां बीजेपी की तरह नही, TMC बहुत गरीब पार्टी है

पश्चिम बंगाल: उत्तर परगना में बीजेपी सासंद पर हुआ जानलेवा हमला, हमलावरों ने फेंके बम, चलाईं गोलियां

आयकर विभाग ने दुर्गा पूजा समितियों को भेजा नोटिस, केंद्र सरकार पर भड़कीं ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल: तीन तलाक के खिलाफ आवाज उठाने वाली इशरत जहां को घर खाली करने का आदेश, हनुमान चालीसा के पाठ में हुई थी शामिल

फर्जी डिग्री मामले में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी को दिल्ली की कोर्ट ने पेश होने का दिया आदेश

2019-06-10_Mamta.jpg

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी सरकार ने केन्द्र को एक पत्र लिख कर कहा है कि राज्य में लोकसभा चुनाव के बाद झड़प की छिटपुट घटनाएं हुई हैं, लेकिन स्थिति नियंत्रण में है. दरअसल, तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा में शनिवार को चार लोगों के मारे जाने के बाद केंद्र ने रविवार को दिन में एक परामर्श जारी किया था, जिस पर राज्य सरकार ने यह जवाब दिया है.

राज्य के मुख्य सचिव मलय कुमार डे ने गृह मंत्रालय को लिखे पत्र में कहा है, ‘‘हिंसा के सभी मामलों में बिना किसी देरी के कड़ी और उचित कार्रवाई की गई.’’ उन्होंने लिखा, ‘‘कुछ असमाजिक तत्वों ने चुनाव बाद झड़प की छिटपुट घटनाओं को अंजाम दिया. कानून प्रवर्तन अधिकारी ऐसे सभी मामलों में बिना किसी देरी के कड़ी एवं उचित कार्रवाई करते हैं.’’

पत्र में कहा गया है कि उत्तर 24 परगना जिले के नाजट पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत हुई इस ताजा घटना में भी मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है. वह भी इस परिस्थिति में जब क्षेत्र में शांति बनाए रखने के लिए पुलिस बल सड़कों पर और आस-पास के क्षेत्रों में व्यस्त हैं.

पत्र में कहा गया कि स्थिति नियंत्रण में है और किसी भी परिस्थिति में इसे राज्य में कानून का शासन बनाए रखने में कानून लागू करने वाले तंत्र की नाकामी नहीं समझा जाना चाहिए.’’ इससे पहले, दिन में केन्द्र ने राज्य सरकार को परामर्श जारी किया था. पश्चिम बंगाल सरकार को दिये परामर्श में गृह मंत्रालय ने उससे कानून व्यवस्था और शांति बनाये रखने को कहा. परामर्श में कहा गया है, ‘‘पिछले कुछ हफ्तों से राज्य में बगैर उकसावे के हो रही हिंसा राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने और जनता में विश्वास कायम करने में राज्य के कानून प्रवर्तन तंत्र की नाकामी प्रतीत होती है.’’

तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने केन्द्र द्वारा राज्य सरकार को परामर्श भेजे जाने को राज्य सरकार के खिलाफ साजिश बताया. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि पश्चिम बंगाल देश का सर्वाधिक शांतिप्रिय राज्य है और यहां राजनीतिक खून खराबे की कोई घटना नहीं हुई है.



loading...