आपके शहर में रात 10 बजे सजती है 'मर्दों की मंडी', 3 से 5 हजार रूपए में बिकता है जिस्म

2017-12-20_mal4.jpeg

रेड लाइट एरिया के बारे में भी आपने जरुर सुना होगा. यहां औरतों के शरीर की बोली लगती है और ये बोली लगाने वाले होते हैं मर्द. लेकिन अब जो इस प्रोस्टूट्यूशन की सबसे चौंका देने वाली सामने आई है. इसे सुनकर आप भी हिल जाएंगे.

देश में वैश्यावृत्ति तेजी से बढ़ती जा रही है. इस बात को तो सब जानते हैं, लेकिन क्या आप ये बात जानते हैं कि यहां सिर्फ औरतों की नहीं मर्दों की भी बोली लगती है. जी हां, यही इस धंधे का काला सच है. महिलाओं से ज्यादा पुरुष इस धंधे में पड़ते जा रहे हैं. क्या है इसके पीछे की वजह? आखिर पुरुष क्यों इस धंधे में पड़ रहे हैं? देखिए क्या कहती है ये ताजा रिपोर्ट.

जानकारी के मुताबिक़ , विदेश में 'मेल प्रोस्टूट्यूट' यानी प्रोस्टीट्यूशन के धंधे में पड़े पुरुषों के लिए 'जिगोलो' शब्द का इस्तेमाल किया जाता है. एक ताजा रिपोर्ट में ये सामने आया है कि दिल्ली, चंडीगढ़, मुंबई जैसे बड़े शहरों से 'जिगोलो' की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है.

इस गौरखधंधे में फंसने वाले अधिकतर कॉलेज जाने वाले युवा बताए जा रहे हैं. दरअसल, इनमें कई युवा मजबूरी में तो कई पैसों के लालच में इस धंधे में कूद रहे हैं. पैसा कमाने की होड़ में डिग्री कॉलेजों के ये लड़के तेजी से इस व्यापार में लिप्त हो रहे हैं. इन लड़कों से सेवाएं लेने वाली महिलाएं भी बड़े घरानों से है जो एक बार में ही इन्हें 3000-5000 रुपए देती हैं.

बड़े शहरों में कई ऐसे युवा हैं जिन्हें बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में ये युवा 'जिगोलो' बनने को तैयार हो जाते हैं. ऐसे में सरकार को जल्द से जल्द कोई सख्त कदम उठाना होगा. वरना जिस युवा शक्ति के लिए दंभ भरा जाता है वह कब इन अंधेरी गलियों में गायब हो जाएगा, पता नहीं चल पाएगा.



loading...