ताज़ा खबर

मालेगांव बम धमाका केस में 4 आरोपियों को मुंबई हाई कोर्ट ने दी जमानत

महाराष्ट्र के पुणे में बड़ा दर्दनाक हादसा, ट्रक और कार की भीषण टक्कर में 9 की मौत

मुबंई पुलिस ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भतीजे रिजवान कासकर को हवाई अड्डे से किया गिरफ्तार, देश से भागने की तैयारी में था

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस से NCP ने मांगी बराबर सीटें, कहा- आम चुनाव में हमने अच्छा प्रदर्शन किया

सुप्रीम कोर्ट का मराठा आरक्षण पर रोक लगाने से इनकार, महाराष्ट्र सरकार से मांगा जवाब

महाराष्ट्र: मुंबई में बारिश से कई जगहों पर लगा ट्रैफिक जाम, हाईटाइड को लेकर चेतावनी जारी, कई उड़ानें ठप

Video- कांग्रेस विधायक नितेश राणे ने PWD इंजीनियर को कीचड़ से नहलाया फिर पुल से बांधा

2019-06-14_BombayHighCourt.jpeg

महाराष्‍ट्र के नासिक जिले के मालेगांव में 2008 में हुए बम धमाकों के मामले में आरोपी 4 लोगों को शुक्रवार को बांबे हाईकोर्ट ने जमानत दे दी. हाईकोर्ट की ओर से मामले के आरोपियों धन सिंह, मनोहर नावरिया, राजेंद्र चौधरी और लोकेश शर्मा को जमानत दे दी. आपको बात दें कि मालेगांव में 8 सितंबर 2008 में सीरियल ब्‍लास्‍ट हुए थे, इनमें 35 से अधिक लोगों की मौत हुई थी. साथ ही करीब 100 लोग घायल हुए थे.

आपको बता दें कि इस मामले में भोपाल से बीजेपी सांसद साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर भी आरोपी हैं. वह आठ जून को विशेष एनआईए अदालत में पेश हुईं थीं. उन्होंने इस दौरान कहा था कि वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट की उन्हें कोई जानकारी नहीं है. वह इस मामले की प्रमुख आरोपियों में से एक मानी जाती हैं. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत के समक्ष पेश प्रज्ञा ने विशेष न्यायाधीश वी.एस. पदालकर से कहा था, "मुझे जानकारी नहीं है." इस मामले के दूसरे आरोपी सुधाकर द्विवेदी ने भी विशेष अदालत के सामने प्रज्ञा जैसा ही बयान दिया.

एनआईए ने इस मामले की जांच की जिम्मेदारी अप्रैल, 2011 में महाराष्ट्र आतंकरोधी दस्ता (एटीएस) से अपने पास ले ली थी. आरोपपत्र में प्रज्ञा, पुरोहित और द्विवेदी के अलावा अन्य 14 लोगों के नाम हैं, जिनमें मेजर रमेश उपाध्याय, समीर कुलकर्णी, राकेश धवाडे, प्रवीण तकालकी और सुधाकर चतुर्वेदी भी शामिल हैं. इस मामले में शिवनारायण कलसांग्रा, श्याम साहू, अजय राहिरकर और जगदीश म्हात्रे को जमानत मिल चुकी है, जबकि दो अन्य-संदीप डांगे और रामचंद्र कलसांग्रा अब तक फरार हैं.



loading...