ताज़ा खबर

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा- 2050 तक महाराष्‍ट्र से एक से अधिक प्रधानमंत्री बन सकते हैं

मुंबई में फिर खुलेंगे डांस बार, इन शर्तों के साथ सुप्रीम कोर्ट ने दी अनुमति

नीलेश राणे का गंभीर आरोप, सोनू निगम की हत्‍या करवाना चाहते थे बालासाहेब ठाकरे

महाराष्ट्र के सोलापुर में बोले पीएम मोदी, आरक्षण पर झूठ फैलाने वालों को लोकसभा में मिला करारा जवाब

लोकसभा चुनाव 2019: महाराष्ट्र में एनसीपी और कांग्रेस के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, सहयोगियों के लिए छोड़ी इतनी सीटें

भीमा कोरेगांव हिंसा की सालगिरह: विजय स्तम्भ पर इकट्ठा हुए हजारों लोग, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात

मुंबई में कमला मिल्स कंपाउंड के पास निर्माणाधीन बिल्डिंग में लगी आग, मौके पर दमकल की 5 गाड़ियां मौजूद

2019-01-05_DevendraFadanvis.jpg

देश में इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है. इसके लिए सभी राजनीतिक दल अपने-अपने स्‍तर पर तैयारी कर रहे हैं. वहीं प्रधानमंत्री बनने की रेस के लिए भी कई नेता कमर कस रहे हैं. इसी को लेकर महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी प्रतिक्रिया दी है. उनसे जब पूछा गया कि क्‍या देश को 2050 तक महाराष्‍ट्र से कोई प्रधानमंत्री मिल सकता है, तो उन्‍होंने कहा हां, ऐसा बिलकुल होगा.

शुक्रवार को नागपुर में आयोजित मराठी जागरण सम्‍मेलन में महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस मुद्दे पर बोलते हुए कहा 'अगर देश में किसी ने सच में शासन किया है तो वे महाराष्‍ट्र के लोग थे. हमारे अंदर शीर्ष पर पहुंचने की पूरी क्षमता है.' उन्‍होंने कहा कि 2050 तक देश को महाराष्‍ट्र से एक से अधिक प्रधानमंत्री मिलेंगे.

वहीं देवेंद्र फडणवीस से जाति और आरक्षण के मुद्दे पर भी सवाल पूछे गए थे. उन्‍होंने इन सवालों के जवाब में कहा 'अगर सभी समुदायों को आरक्षण दे दिया जाए तो 90 फीसदी युवाओं को सरकारी नौकरी नहीं मिल पाएगी. सरकार एक साल में सिर्फ 25 हजार नौकरियां ही दे सकती है. इसका मुद्दे का उपाय आरक्षण नहीं है.' उन्‍होंने कहा 'इस बात में सच्‍चाई है कि जाति की पहचान के लिए आरक्षण जरूरी है.'

राजनीतिक पार्टियों की जाति राजनीति पर मुख्यमंत्री ने कहा, 'आज हमारे देश की जनसांख्यिकी को देखते हुए, 'जहां 65 प्रतिशत जनसंख्या 40 की उम्र से नीचे है और 45 प्रतिशत 25 साल से नीचे हैं, यहां अपेक्षा 'यहां और अभी' केवल बढ़ेगी. यह अवसर सरकार के बाहर उपलब्ध हैं. बेशक, यह भी सच है कि आरक्षण अभी भी उनमें से कई को सशक्तिकरण की भावना देता है.



loading...