महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा में 21 अक्टूबर को होंगे चुनाव, आज से दोनों राज्यों में आचार संहिता लागू

हरियाणा: पानीपत रैली में बोले अमित शाह- दरबारियों, दामाद और दलालों के जरिए कांग्रेस चलाती है अपनी सरकार

हरियाणा चुनाव: कुरुक्षेत्र रैली में पीएम मोदी ने कहा- राष्ट्रहित में बड़े और कड़े फैसले लेते रहेंगे

हरियाणा: बल्लभगढ़ रैली में बोले पीएम मोदी- अनुच्छेद 370 पर घड़ियाली आंसू बहा रहे कांग्रेसी

हरियाणा: विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, जानें जनता से क्या-क्या किए वादे

हरियाणा विधानसभा चुनाव: कैथल में बोले अमित शाह- राफेल की शस्‍त्र पूजा से चिढ़ गई है कांग्रेस

हरियाणा विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी से दिया इस्तीफा

2019-09-21_SuneelArora.jpg

मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त सुनील अरोड़ा ने शनिवार को महाराष्‍ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया है. महाराष्‍ट्र और हरियाणा दोनों ही राज्‍यों में एक साथ 21 अक्‍तूबर को चुनाव होंगे. 24 अक्‍तूबर को मतों की गिनती की जाएगी. तारीखों का ऐलान करते हुए मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त सुनील अरोड़ा ने बताया, महाराष्‍ट में 288 सीटों के लिए चुनाव होंगे तो हरियाणा में 90 सीटों के लिए. 

महाराष्‍ट्र में इस बार 8.9 करोड़ वोटर हैं, वहीं हरियाणा में एक करोड़ 24 लाख वोटर हैं. हरियाणा में 2 नवंबर और महाराष्‍ट्र में 9 नवंबर को वर्तमान विधानसभा का कार्यकाल खत्‍म हो रहा है. चुनाव की घोषणा के साथ ही आज शनिवार से ही दोनों राज्‍यों में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है. अब इन राज्‍यों में नई योजनाओं की घोषणा नहीं हो सकेंगी.

सुनील अरोड़ा ने कहा, चुनावी खर्चे पर निगरानी रखी जाएगी. उम्मीदवारों को 30 दिन में खर्च का हिसाब देना होगा. उम्‍मीदवार 28 लाख रुपये से अधिक खर्च नहीं कर सकते. चुनाव खर्च पर व्‍यय पर्यवेक्षक निगरानी रखेंगे. क्रिमिनल रिकॉर्ड की भी जानकारी देनी होगी. चुनाव आयोग ने ईको फ्रेंडली चुनाव का आह्वान करते हुए प्‍लास्‍टिक का इस्‍तेमाल न करने की अपील की है. सुनील अरोड़ा ने कहा, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली और गोंदिया में एलडब्ल्यूई प्रभावित क्षेत्रों के लिए विशेष सुरक्षा व्यवस्था की जाएगी.

2014 में दोनों राज्यों में बीजेपी जीतकर आई थी. महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों में से बीजेपी के खाते में 122 सीटें आई थीं और देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बने थे. जबकि हरियाणा में 90 सीटों में से बीजेपी को 47 सीटें मिली थीं. यहां मनोहर लाल खट्टर मुख्यमंत्री बने थे. झारखंड में बीजेपी ने 77 सीटों में से 35 सीटों पर कब्जा जमाया था और रघुबर दास राज्य के मुख्यमंत्री बने थे.



loading...