ताज़ा खबर

तमिलनाडु: मद्रास हाईकोर्ट का आदेश, मुफ्त का चावल लोगों को बना रहा आलसी, केवल गरीबों को दी जाए सुविधा

लोकसभा चुनाव: तमिलनाडु में कांग्रेस और सहयोगी पार्टियां 10-10, डीएमके 20 सीट पर लड़ेगी चुनाव

तमिलनाडु में पीएम मोदी ने की विंग कमांडर अभिनंदन की तारीफ, कहा- उनकी बहादुरी पर पूरे देश को गर्व है

लोकसभा चुनाव: तमिलनाडु में कांग्रेस और डीएमके साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, ये है शीट शेयरिंग का फॉर्मूला

तमिलनाडु: सरकारी अस्पताल में गर्भवती महिला को चढ़ा दिया गया HIV संक्रमित खून

चक्रवाती तूफान 'गाजा ' ने तमिलनाडु में दी दस्तक, 11 लोगों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद

तमिलनाडु में चक्रवाती तूफान 'गाजा' ने दी दस्तक, 370 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाएं, कई क्षेत्रों में भारी बारिश

2018-11-23_PeopleLazy.jpg

तमिलनाडु में मुफ्त सरकारी योजनाओं पर मद्रास हाईकोर्ट ने सख्त टिप्पणी की है. कोर्ट ने कहा कि मुफ्त में चावल देने की योजना और ऐसी ही अन्य सरकारी सेवाओं ने तमिलनाडु के लोगों को आलसी बना दिया है. 

इसका नतीजा यह हुआ है कि हमें काम करने के लिए उत्तर भारतीय राज्यों से लोगों को बुलाना पड़ रहा है. कोर्ट ने साफ कहा कि मुफ्त चावल देने की सुविधा को सिर्फ बीपीएल परिवारों तक ही सीमित रखा जाना चाहिए.

जस्टिस एन किरूबाकरण और जस्टिस अब्दुल कुद्दूस की पीठ ने कहा कि हम मुफ्त चावल बांटने की योजना के खिलाफ नहीं हैं लेकिन इसे केवल जरूरतमंदों और गरीबों के लिए सीमित करना जरूरी है. पहले की सरकारों ने राजनीतिक फायदे के लिए इस तरह का लाभ सभी तबकों को दिया. परिणामस्वरूप, लोगों ने सरकार से सब कुछ मुफ्त में पाने की उम्मीद करनी शुरू कर दी. नतीजतन वे आलसी हो गए हैं और छोटे-छोटे काम के लिए भी प्रवासी मजदूरों की मदद ली जाने लगी है.

पीठ गरुवार को पीडीएस के चावल की तस्करी कर उसे बेचने के आरोप में गुंडा कानून के तहत गिरफ्तार एक व्यक्ति द्वारा इसे चुनौती दिए जाने के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी. सुनवाई के दौरान सरकार ने पीठ को बताया था कि आर्थिक हैसियत का खयाल किए बगैर सभी राशनकार्ड धारकों को मुफ्त में चावल दिया जाता है.



loading...