करंसी में 'महात्मा' शब्द के इस्तेमाल के खिलाफ याचिका मद्रास हाईकोर्ट में खारिज़, लगाया जुर्माना

करुणानिधि की मौत के बाद परिवार में सत्ता संघर्ष शुरू, अलागिरी ने कहा- असली काडर मेरे साथ

टीवीएस मोटर्स के चेयरमैन पर मूर्ति चोरी का आरोप, छह सप्ताह तक गिरफ्तारी से मिली राहत

राजीव गांधी हत्याकांड मामले में केंद्र ने सुप्रीमकोर्ट में कहा- हत्यारों को छोड़ने से खतरनाक परंपरा शुरू हो जाएगी

राजाजी हाल से करुणानिधि की आखिरी विदाई शुरू, भगदड़ में 2 लोगों की मौत

मद्रास हाई कोर्ट ने मरीना बीच पर करुणानिधि के अंतिम संस्कार की दी इजाजत, PM मोदी ने राजाजी हॉल पहुंचकर दी श्रद्धांजलि

एमके स्टालिन ने पिता करुणानिधि को लिखा भावुक पत्र, क्या आखिरी बार आपको अप्पा कह सकता हूं

2017-11-15_madras-high-court-india.jpg

करेंसी नोट्स से ‘महात्मा’ शब्द हटवाने को लेकर मद्रास हाई कोर्ट पहुंचे शख्स पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है. ऐसा न्यायपालिका का वक्त बर्बाद करने पर किया गया. इस शख्स ने कोर्ट से गुजारिश की थी कि वह केंद्र सरकार को दिशानिर्देश जारी कर नोटों पर गांधी के साथ अंकित किए जाने वाले ‘महात्मा’ नाम को हटवाए. 

याचिकाकर्ता एस मुरुगनानथम कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी में रिसर्च स्कॉलर है. याचिका को खारिज करते हुए चीफ जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस एम सुंदर की बेंच ने कहा कि इस तरह की पीआईएल सिर्फ कोर्ट के व्यवहार को रोकने का काम करती हैं और उसके मूल्यवान वक्त को भी बर्बाद करती हैं.

करेंसी नोट पर मोहनदास कर्मचंद गांधी की जगह महात्मा गांधी लिखा जाता है. याचिकाकर्ता ने ‘महात्मा’ शब्द की संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार द्वारा ऐसा किया जाना संविधान के अनुच्छेद 14 और अनुच्छेद 18 का पूरी तरह उल्लंघन है.

याचिकाकर्ता ने ये भी कहा कि जब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इस प्रेफिक्स का इस्तेमाल करता है तो वह संविधान के मूल तत्व समानता के सिद्धांत का भी उल्लंघन करता है.



loading...