एम नागेश्वर राव ने फिर संभाला सीबीआई का कार्यभार, आलोक वर्मा के आदेश पलटे

Lok Sabha Eleciton 2019: भाजपा ने जारी की 11 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट, कैराना से हुकुम सिंह की बेटी का टिकट कटा

सैम पित्रोदा के विवादित बयान पर अमित शाह ने कहा- जनता और जवानों से माफी मांगे राहुल गांधी

भारत के पहले लोकपाल बने जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलाई शपथ

इमरान खान का ट्वीट, पाकिस्तान के नेशनल डे पर पीएम मोदी ने भेजा संदेश, भारत का जवाब, ये परंपरा का हिस्सा

पीएम नरेंद्र मोदी ने ब्लॉग लिखकर शहीदों और राम मनोहर लोहिया को किया याद, कांग्रेस पर बोला हमला

आतंकी हाफिज सईद के संगठन के खिलाफ NIA ने दाखिल की चार्जशीट, भारत में करते थे स्लीपर सेल की भर्ती

2019-01-11_MNageshwarRao.jpg

एम नागेश्वर राव ने शुक्रवार को केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो (सीबीआई) के अंतरिम निदेशक का पद संभाल लिया है. उन्‍होंने पदभार संभालने के बाद पूर्व निदेशक आलोक वर्मा की ओर जारी किए गए सभी ट्रांसफर आदेशों को रद्द कर दिया है. अंतरिम सीबीआई निदेशक एम नागेश्वर राव ने सीबीआई के प्रमुख के रूप में अपने दो दिन के कार्यकाल में आलोक वर्मा द्वारा किए गए तबादलों संबंधी फैसले को रद्द कर दिया और अधिकारियों की आठ जनवरी वाली स्थिति बहाल कर दी.

सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के आदेश को मंगलवार को रद्द कर दिया था. इसके बाद वर्मा ने राव द्वारा किए गए सभी तबादले रद्द कर दिए थे. उन्होंने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले की जांच के लिए एक नया जांच अधिकारी भी नियुक्त किया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, न्यायमूर्ति एके सीकरी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की सदस्यता वाली उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने वर्मा का सीबीआई से गुरुवार को तबादला कर दिया था. सरकार ने अतिरिक्त निदेशक नागेश्वर राव को एजेंसी का प्रभार सौंपा. वर्मा और अस्थाना को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के दौरान भी राव ने 77 दिनों तक प्रभार संभाला था.

सुप्रीम कोर्ट ने राव को कोई भी बड़ा नीतिगत निर्णय से रोक दिया था लेकिन इस बार उनके कार्यकाल में ऐसी कोई शर्त नहीं है. एक सीबीआई प्रवक्ता ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि राव ने गुरुवार नौ बजे एजेंसी का कार्यभार संभाला. 

वहीं सीबीआई के निदेशक पद से हटाए जाने के बाद पहली बार आलोक वर्मा ने सफाई दी है. उन्‍होंने कहा 'मैंने सीबीआई की साख बनाए रखने की कोशिश की. मुझे झूठे आरोपों के आधार पर पद से हटाया गया है.' उन्‍होंने यह भी कहा कि सीबीआई को बिना बाहरी दखल के काम करना चाहिए. सीबीआई की साख बर्बाद करने की कोशिश की गई है.



loading...