भागलपुर के बाद असम के सिल्चर में पीएम मोदी ने कहा- ये चायवाला आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ेगा

NRC में नाम जोड़ने के लिए 10 हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़े गए 2 अधिकारी, कोर्ट में किए जायेंगे पेश

असम में राहुल गांधी का वादा, हमारी सरकार बनने पर युवाओं को रोजगार शुरू करने के लिए किसी परमिशन की जरूरत नहीं होगी

असम में पीएम मोदी का कांग्रेस पर वार, कहा- चाय वालों का दर्द सिर्फ एक चायवाला ही समझ सकता है

असम सरकार में बीजेपी के मंत्री ने कहा- अगर मोदी दोबारा पीएम नहीं बने तो संसद और विधानसभा पर हमला कर सकता है पाकिस्तान

असम 2008 बम विस्फोट मामले में एनडीएफबी प्रमुख रंजन दैमारी सहित 10 को उम्रकैद की सजा, 88 लोगों की गई थी जान

असम 2008 बम विस्फोट मामले में एनडीएफबी प्रमुख रंजन दैमारी सहित 15 दोषी करार, बुधवार को सजा का ऐलान

2019-04-11_PmModi.jpg

लोकसभा चुनाव के प्रसार-प्रचार में जुटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के सिल्चर में अपनी चुनावी रैली में कांग्रेस पर जमकर बरसे. पीएम मोदी ने बिना राहुल गांधी का नाम लिए कहा कि सोने की चम्मच लेकर पैदा हुए लोग सिर्फ चाय का स्वाद ले सकते हैं. उन्हें इस बात का अहसास तक नहीं होता कि चाय की पत्ती चुनने में हाथ छिल जाते हैं. ये चायवाला आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हवा का रुख किस तरफ बह रहा है, ये आपके उत्सव से साफ पता चल रहा है. इससे पहले असम के मंगलदाई में अपने चुनावी रैली के दौरान मोदी ने कांग्रेस पर राष्ट्रीय सुरक्षा को कमजोर करने का आरोप लगाया था. उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस अपनी स्थित को मजबूत करने के लिए एक और घोटाले सामने लाई है. यह 'तुगलक रोड चुनावी घोटाला' है. प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर बात राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवादी संगठनों की हो तो क्या किसी भी तरह का समझौता किया जा सकता है? मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि दुर्भाग्यवश विपक्ष राष्ट्रीय सुरक्षा को कमजोर करना चाहता है.

पीएम मोदी ने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर हमले का सबूत मांगकर कांग्रेस ने देश की सुरक्षा से समझौता किया है. वोट बैंक की राजनीति में कांग्रेस के संलिप्त रहने के आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा कि अगर वे चाहते तो 1971 के भारत-पाक युद्ध के बाद ही असम और जम्मू-कश्मीर की समस्याओं का समाधान कर देते. उन्होंने कहा, ‘लेकिन उन्होंने निहित स्वार्थों के लिए मुद्दों को जानबूझकर जिंदा रखा.’



loading...