ताज़ा खबर

Lok Sabha Election: रतलाम में पीएम मोदी ने कहा- देश ‘गालीपंथी’ से नहीं ‘राष्‍ट्रभक्ति’ से चलेगा

महात्मा गांधी पर विवादित पोस्ट लिखने वाले मध्य प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अनिल सौमित्र को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया

लोकसभा चुनाव 2019 की आखिरी रैली में बोले पीएम मोदी, ‘फिर एक बार मोदी सरकार, अबकी बार 300 पार’

MPBSE Result 2019: 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित, लड़कियों ने मारी बाजी

पुणे में कपड़ों के गोदाम में लगी भीषण आग, 5 कर्मचारियों की मौत

मध्यप्रदेश: भोपाल में दिग्विजय सिंह के रोड शो के दौरान लगे मोदी-मोदी के नारे, पुलिस ने 4 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया

मध्यप्रदेश: किसानों की कर्जमाफी से जुड़े दस्तावेज लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचे कांग्रेस के नेता

2019-05-13_PmModi.jpg

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण का प्रचार तेज हो चुका है. सोमवार को अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी मध्‍य प्रदेश के रतलाम पहुंचे. चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, बताइए देश गालीपंथी से चलेगा या राष्‍ट्रभक्ति से चलेगा. 1984 के सिख विरोधी दंगों के बारे में एक बार फिर कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की टिप्‍पणी पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 'हुआ तो हुआ' टिप्‍पणी कांग्रेस के अहंकार को बताती है. सेना के संदर्भ में कहा कि पहले की सरकारों ने जवानों को बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं दी.

इससे पहले पिछले लोकसभा चुनावों और मौजूदा लोकसभा चुनावों के दौरान देश के मतदाताओं के मूड की तुलना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दावा किया कि इस बार सत्तारूढ़ राजग गठबंधन के समर्थन में लहर है. उन्होंने कहा, "वर्ष 2014 का चुनाव एंटी इन्कम्बेन्सी (सत्ताविरोधी लहर) का था, जबकि 2019 का मौजूदा चुनाव प्रो-इन्कम्बेन्सी (सत्ता समर्थक लहर) का है. वर्ष 2014 के चुनाव में भ्रष्टाचार, वंशवाद और नीतिगत लकवे के खिलाफ जनता का आक्रोश चरम पर था, जबकि 2019 के चुनाव में जनता का विश्वास चरम पर है."

मोदी ने कहा, "2014 के चुनाव में देश ने मेरे और मेरे काम के बारे में बस सुना था. 2019 के इस चुनाव में देश मेरे काम को जानने लगा है. लिहाजा इस बार भारतीय जनता पार्टी नहीं, बल्कि खुद भारतीय जनता चुनाव लड़ रही है." प्रधानमंत्री ने कहा, "मेरी निष्ठा, नीयत और नीति का आकलन कम-ज्यादा हो सकता है. लेकिन मेरे इरादों में कोई भी खोट नहीं निकाल सकता."
मोदी ने अपने राजनीतिक विरोधियों पर आक्रमण करते हुए कहा, "हमने अक्सर देश में सत्तारूढ़ दल को हटाने के लिये जनता को खड़े होते देखा है. अक्सर यह भी बोला जाता है कि देश का मतदाता शांत होता है. लेकिन इस बार मतदाता मुखर है और वह कश्मीर से कन्याकुमारी तक (एनडीए) सरकार को दोबारा चुनने के लिए खड़ा हो गया है. इस कारण कई नेताओं की नींद हराम हो गई है और उन्होंने बयानबाजी के मामले में अपना संतुलन खो दिया है."

वर्ष 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख सैम पित्रोदा के विवादास्पद बयान "हुआ तो हुआ" को लेकर कांग्रेस पर हमले जारी रखते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह कथन कांग्रेस का अहंकार दिखाता है. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नजरिये पर सवाल खड़ा करते हुए कहा, "वंशवाद की सीढ़ी पर चढ़कर उन्हें (राहुल) पार्टी की कमान तो मिल सकती है, लेकिन दूरदृष्टि नहीं मिल सकती."

प्रधानमंत्री ने अलवर में दलित महिला से सामूहिक बलात्कार पर कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस मामले को दबाने की कोशिश की. मोदी ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर वह इस घटना को लेकर इतनी ही चिंतित हैं तो उनकी पार्टी को राजस्थान की कांग्रेस नीत सरकार से समर्थन वापस ले लेना चाहिये.



loading...