कमल हासन पर चप्पल के बाद अब अंडे और पत्थर फेंके गए, जमकर हुआ हंगामा

महाबलीपुरम में पीएम मोदी और शी जिनिपिंग के स्वागत के लिए 18 तरह की सब्जियों और फलों से सजाया गया गेट

तमिलनाडु: आतंकवादी अलर्ट के बीच NIA ने कोयंबटूर में 5 स्थानों पर की छापेमारी, मोबाइल, सिम कार्ड, लैपटॉप और पेन ड्राइव बरामद

तिलक-भभूत लगाकर श्रीलंका के रास्‍ते तमिलनाडु में घुसे लश्‍कर-ए-तैयबा के 6 आतंकी, हाई अलर्ट जारी

तमिलनाडु में ISIS के संदिग्ध छिपे, NIA की टीम ने 7 जगहों पर की छापेमारी

लोकसभा चुनाव: तमिलनाडु में कांग्रेस और सहयोगी पार्टियां 10-10, डीएमके 20 सीट पर लड़ेगी चुनाव

तमिलनाडु में पीएम मोदी ने की विंग कमांडर अभिनंदन की तारीफ, कहा- उनकी बहादुरी पर पूरे देश को गर्व है

2019-05-17_KamalHaasan.jpg

अभिनेता से नेता बने कमल हासन का एक बार फिर विरोध हुआ है. गुरुवार को एक चुनावी जनसभा में उनपर अंडे और पत्थर फेंके गए. तमिलनाडु के अरावकुरिची में कमल हासन जब अपना भाषण खत्म करके मंच से नीचे उतरे तभी दो लोगों ने उनपर हमला किया. आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. मामले की जांच जारी है.

कमल हासन के नेतृत्व वाली मक्कल निधि मैयम (एमएनएम) के कार्यकर्ताओं ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की और सुरक्षा में कमी के लिए पुलिस की आलोचना की. इस बीच, कोयंबटूर जिला पुलिस ने शुक्रवार को सुलूर उपचुनाव में प्रचार करने के लिए कमल हासन को अनुमति देने से इंकार कर दिया है. एमएनएम के सूत्रों का कहना है कि वे कैंपेन पर अंतिम फैसले के लिए पुलिस की अनुमति का इंतजार कर रहे हैं.

बीते दो दिनों में कमल हासन का दूसरी बार विरोध हुआ है. आपको बता दें कि कमल हासन हिंदू आतंकवाद वाले बयान के बाद से निशाने पर हैं. इससे पहले मदुरै में एक जनसभा के दौरान उनपर चप्पल फेंकने की कोशिश भी की गई. मदुरै पुलिस के अनुसार कुछ लोगों ने कमल हासन की जनसभा में हंगामा करने और उनपर चप्पल फेंकने की कोशिश की गई.

तमिलनाडु में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मक्कल नीधि मय्यम (एमएनएम) के अध्यक्ष कमल हासन ने कहा था कि आजाद हिंदुस्तान का पहला हिंदू आतंकवादी था. जिसका नाम नाथूराम गोडसे से था.

कमल हासन के बयान के बाद बीजेपी प्रवक्ता और वकील अश्विनी उपाध्याय की तरफ से दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका भी डाली गई थी जिस पर कोर्ट ने सुनवाई करने से इनकार कर दिया. कोर्ट का कहना था कि उसे नहीं लगता कि ये याचिका हाइकोर्ट में सुनवाई के योग्य है या उनके कार्य क्षेत्र से जुड़ी हुई है. याचिका में कहा गया था कि धार्मिक आधार पर वोट हासिल करने के लिए दिए जाने वाले भाषणों पर चुनावों के दौरान रोक लगाई जानी चाहिए.



loading...