कर्नाटक चुनावी उठापठक: बैठक में नहीं पहुंचे कांग्रेस के 12 तो जेडीएस के दो विधायक

2018-05-16_Karnataka-Assembly-Election.jpg

कर्नाटक राज्य में सरकार बनाने को लेकर भाजपा-जेडीएस-कांग्रेस ने अपनी-अपनी कोशिशें शुरु कर दी हैं. तीनों पार्टियों की विधायक दल की बैठक में जेडीएस के दो और कांग्रेस की बैठक में 12 विधायक गायब रहे. ये देखते हुए बीजेपी पर विधायकों से बात चीत करने का आरोप लग रहा है. कांग्रेस और जेडीएस ने  दावा किया है कि उनके सभी चुने गए विधायक एक साथ हैं. कांग्रेस विधायक अमरेगौड़ा लिंगानागौड़ा पाटिल बाय्यापुर ने कहा कि बीजेपी नेताओं ने उन्हें मंत्री पद का ऑफर दिया था. इससे पहले कहा गया कि बीएस येद्दियुरप्पा ने सरकार बनाने के लिए फिर ‘ऑपरेशन लोटस’ छेड़ा है. वे कांग्रेस के चार और जेडीएस के छह विधायकों के संपर्क में हैं. सबको मंत्री पद का ऑफर दिया है.

खबरों को देखते हुए, राज्यपाल बुधवार को भाजपा को सरकार बनाने का अवसर दे सकते हैं. येद्दियुरप्पा ने शपथ के लिए 17 मई का मुहूर्त भी निकलवा लिया है. वह 21 को बहुमत साबित करेंगे.

सूत्रों की माने तो, अभी तक इनके नहीं पहुंचने की आधिकारिक वजह का पता नहीं चला है. ज्ञात हो जेडीएस-कांग्रेस और भाजपा ने सरकार बनने का दावा पेश कर चुके हैं. इस चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं 

कांग्रेस विधायक अमरेगौड़ा लिंगानागौड़ा पाटिल बाय्यापुर में बताया कि मुझे भाजपा नेताओं का कॉल आया था. उन्होंने कहा कि हमारे साथ आ जाओ और हम आपको मंत्रालय देंगे. हम आपको मंत्री बनाएंगे. लेकिन, मैंने मना कर दिया. हमारे मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी हैं.

कांग्रेस नेता डी शिवकुमार ने कहा कि वे (भाजपा‌) हमारे नेताओं के संपर्क में हैं. ये हम जानते हैं. सभी पर बहुत दबाव है. लेकिन यह आसान नहीं होगा, क्योंकि दो पार्टियों के पास बहुमत का नंबर है. लोग यह सब देख रहे हैं. पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा सभी कांग्रेस एमएलए हमारे साथ हैं. कोई भी बाहर नहीं है. हम सरकार बनाने जा रहे हैं.

अब सत्ता किसके हाथ आएगी, यह राजपाल पर निर्भर करता है. नरेंद्र मोदी के गुजरात में सीएम के तौर पर 13 साल के कार्यकाल में वजुभाई वाला 9 साल तक वित्त मंत्री थे. 2001 में मोदी के पहले विधानसभा चुनाव के लिए वजुभाई ने राजकोट सीट छोड़ दी थी. 

गुलाम नबी आजाद ने बुधवार को कहा, "भाजपा के पास 104 विधायक हैं. कांग्रेस और जेडीएस के पास 117 हैं. राज्यपाल को सही फैसला करना होगा."



loading...