जेल में ठंड लगती है साहब : लालू; जज बोले- तबला बजाइये

बिहार: नीतीश सरकार ने लिया बड़ा फैसला, बलात्कार और तेजाब हमले की पीड़िताओं का मुआवजा बढ़ाकर 7 लाख किया

बारातियों को रसगुल्ला देने से किया मना तो जमकर की पिटाई, लड़की वालों ने रोक दी शादी

बिहार: रेलवे इंजीनियर को अगवा करके कराया गया पकड़उआ विवाह, अपनाने से किया इनकार तो होगी जेल

बिहार: पटना में अमित शाह और नीतीश कुमार की मीटिंग खत्म, मुस्कराते हुए निकले सीएम, सीटों को लेकर रात्रिभोज पर होगी चर्चा

शर्मनाक: गया में दो साल की बच्ची से रेप, आरोपी की लोगों ने की जमकर पिटाई

लालू के लाल तेज प्रताप ने गाय से पूछा- बीजेपी को हराओगी, सिर हिलाने पर समर्थक बोले हां कह रही है

2018-01-05_lalu4.jpg

चारा घोटाला मामले में रांची स्थित विशेष CBI कोर्ट से गुरुवार को जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने शिकायत की कि उनके परिचितों को उनसे जेल में मिलने नहीं दिया जा रहा है तो जज साहब ने हंसते हुए कहा कि इसीलिए तो आपको अदालत में बुलाते हैं, जिससे आप सबसे मिल सकें. इसके बाद तो अदालत में हंसी के फव्वारे ही फूट पड़े. इतना ही नहीं, लालू ने कोर्ट में जज साबह से कहा कि 'हमने कुछ नहीं किया जज साहब, जेल में बहुत ठंड लगती है. इस पर जज ने कहा, 'तबला बजाइये.' बता दें कि चारा घोटाले के इस मामले में 23 दिसंबर को दोषी ठहराये जाने के बाद आज लालू प्रसाद एवं 15 अन्य अभियुक्तों की विशेष CBI अदालत में पेशी थी. 

अदालत ने सजा के बिन्दु पर अभियुक्तों की ओर से बहस सुनी और इसी दौरान विशेष CBI न्यायाधीश शिवपाल सिंह ने अदालत में पेश किये गये लालू प्रसाद की ओर इशारा कर पूछा कि जेल में कोई दिक्कत तो नहीं? जवाब में लालू ने कहा कि साहब जेल में मेरे परिचितों को मुझसे मिलने नहीं दिया जा रहा है. न्यायाधीश ने मुस्कराते हुए कहा कि इसीलिए तो आपको अदालत में बुलाते हैं जिससे आप सबसे मिल सकें. न्यायाधीश की इस टिप्पणी से अदालत में हंसी के फव्वारे फूट पड़े. 

इसके बाद अदालत ने टिप्पणी की कि अब अदालत में आपकी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी की व्यवस्था के बारे में विचार किया जा रहा है. इस पर लालू ने अनुरोध भरे स्वर में कहा कि साहब मुझे अदालत में सशरीर बुलाकर अपना फैसला सुनायें. इस पर अदालत ने कहा कि आपकी पेशी अदालत में कैसे करायी जाये इसके बारे में कल ही फैसला करेंगे. लालू ने कहा कि साहब फैसला देने के पहले ठंडे दिमाग से विचार करियेगा. इस पर न्यायाधीश ने कहा कि आपके शुभचिन्तक दूर-दूर से फोन कर रहे हैं.

बता दें कि लालू प्रसाद के खिलाफ चारा घोटाले से जुड़े कुल 5 मामलों में रांची में मुकदमे चल रहे थे, जिनमें चाईबासा कोषागार से 37 करोड़ 70 लाख रुपये की अवैध निकासी के मामले में उन्हें तथा जगन्नाथ मिश्रा को 30 सितंबर, 2013 को दोषी ठहराये जाने के बाद तीन अक्तूबर को क्रमश: पांच वर्ष कैद, 25 लाख रुपये जुर्माने एवं चार वर्ष कैद की सजा सुनायी जा चुकी है.

लालू प्रसाद के खिलाफ चारा घोटाले में यह दूसरा ऐसा मामला है जिसमें अब आज सजा सुनाये जाने की संभावना है. इसके अलावा उनके खिलाफ कुछ मुकदमे अभी चल रहे हैं जिनकी सुनवाई अंतिम दौर में है.
 



loading...