गुजरात: कांग्रेस के विधायक कुंवरजी बावलिया ने पार्टी छोड़ी, BJP में हुए शामिल, शाम को बनेंगे मंत्री

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर सोमवार को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

यूपी-बिहार के लोगों को धमकाने के आरोप पर अल्पेश ठाकोर ने कहा- अगर मैंने धमकी दी होगी तो जेल जाऊंगा

गुजरात में उत्तर भारतीयों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन पर नीतीश कुमार ने की रूपाणी से बात, राहुल को जदयू का खुला खत

पीएम मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर जोधपुर के कोणार्क मेमोरियल में शहीदों को दी श्रद्धांजलि

गुजरात: गिर के जंगलों में 11 बब्बर शेरों की मौत, सरकार ने दिए जांच के आदेश

गुजरात में क्लर्क की परीक्षा में सवाल, हार्दिक पटेल को किस नेता ने पानी पिलाने की पेशकश की थी

2018-07-03_kunwarbavaliya.jpg

पार्टी से चल रही लगातार नाराजगी के चलते गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पांच बार विधायक रहे कुंवरजी बावलिया ने पार्टी और जसदण सीट से इस्तीफा दे दिया है. बावलिया ने विधानसभा स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी को अपना इस्तीफा सौंप दिया जिसे स्वीकार कर लिया गया है. वह अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं. इसी के साथ वह मंगलवार को मंत्री पद की शपथ लेंगे. कांग्रेस के लिए यह एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

बावलिया ने कुछ दिन पहले ही दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी लेकिन उसके बाद भी उनकी नाराजगी जारी रही. गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि बावलिया कांग्रेस से खुश नहीं थे और अब वह बीजेपी में शामिल हो गए हैं. नितिन पटेल ने दावा किया कि बावलिया ने राहुल गांधी को भी अपना इस्तीफा भेज दिया है. 

उन्होंने कहा कि उनके समर्थक भी उनके साथ बीजेपी जॉइन करेंगे. इसी के साथ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वघानी ने कहा कि बावलिया मंगलवार को 4 बजे मंत्री पद की शपथ लेंगे. आपको बता दें कि बावलिया अपने से जूनियर परेश धनानी को विपक्ष का नेता बनाए जाने से नाराज चल रहे थे.

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गुजरात में जल्द चुनावी अभियान का आगाज करने वाले हैं. राहुल गांधी का अभियान 11 और 15 जुलाई को राज्य के दौरे के साथ ही शुरू होगा. राहुल गांधी ने पिछले साल 2017 में विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में काफी यात्राएं की थीं और चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन में सुधार के साथ 77 सीटें हासिल होने का श्रेय उनकी इन्हीं यात्राओं को दिया गया था. कांग्रेस को 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में 2012 में सिर्फ 54 सीटें मिली थीं जो 2017 में बढ़कर 77 सीटें हो गईं.

गुजरात के विधानसभा चुनाव ने राहुल गांधी की छवि बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. इस चुनाव में राहुल गांधी ने जमकर प्रचार किया और 20 साल से ज्यादा समय तक राज्य में काबिज बीजेपी की सरकार पर जमकर हमले किए थे. हालांकि कांग्रेस को वह जीत दिलाने में कामयाब नहीं हो पाए थे लेकिन उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के माध्यम से यह बता दिया था कि कांग्रेस बीजेपी को टक्कर देने में सक्षम है. गुजरात विधानसभा चुनाव अभियान के दौरान उन्होंने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और उसके नेतृत्व पर निशाना साधने में आक्रमक रवैया अपनाया था.



loading...