पाकिस्तान : सीनेट की सदस्यता हासिल करने वाली पहली हिन्दू दलित महिला बनीं कृष्णा कुमारी कोल्ही

शरणार्थी बच्चों से मिलने के बाद ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप ने पहनी ऐसी जैकेट देखकर मचा बवाल, ट्रम्प को देनी पड़ी सफाई

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न बनीं माँ, ऐसा करने वाली दूसरी महिला, इससे पहले बेनजीर ने बेटी को जन्म दिया था

डोनाल्ड ट्रंप ने बदला फैसला, अमेरिका में अवैध प्रवासियों के बच्चे अब परिवार से नहीं बिछड़ेंगे

ट्रंप से मुलाकात के हफ्तेभर बाद चीन पहुंचे किम, 4 महीने में तीसरा दौरा, जिनपिंग से करेंगे मुलाकात

चीनी राजदूत ने कहा- भारत-पाकिस्तान और चीन मिलकर रच सकते हैं इतिहास, हम एक और डोकलाम नहीं चाहते

जापान के ओसाका शहर में 6.1 तीव्रता का भूकंप, 3 मरे, 50 घायल, बुलेट ट्रेन भी रोकी गई

2018-03-13_pakistan4.jpg

सोमवार को पाकिस्तान की पहली हिंदू दलित महिला सीनेटर कृष्णा कुमारी कोल्ही ने शपथ ग्रहण कर लिया है. उनके साथ कुल 51 सीनेटरों ने शपथ ग्रहण किया.

जानकारी के मुताबिक , 39 वर्षीय कोल्ही बिलावल भुट्टो जरदारी के नेतृत्व वाले पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) की सदस्य हैं. वह सिंध प्रांत के नागरपारकर जिले के सुदूर ग्रामीण इलाके की रहने वाली हैं.

संघीय और प्रांतीय विधानसभाओं द्वारा 3 मार्च को चुने गए सीनेटरों को पीठासीन अधिकारी सरदार याकूब खान नासर ने सोमवार को शपथ ग्रहण कराया. कोल्ही सिंध प्रांत के अल्पसंख्यक सीट से सीनेटर चुनी गई हैं. संसद भवन में वह अपने परिवार के साथ पारंपरिक थारी पहनावे में पहुंची. थारी, सिंध प्रांत के थारपारकर जिले का एक खास पहनावा है. उनका चुना जाना पाकिस्तान में महिला और अल्पसंख्यक अधिकारों के लिए एक मील का पत्थर है.

बता दें कि एक गरीब किसान जुगनू कोलही के घर वर्ष 1979 में जन्मीं कृष्णा कुमारी कोल्ही और उनके परिवार के सदस्यों ने करीब 3 वर्ष उमेरकोट जिले के कुनरी के एक जमींदार की जेल में बिताये थे. कृष्णा की 16 साल की उम्र में ही शादी हो गई थी. उस वक्त वह नौंवी कक्षा की छात्रा थी. हालांकि शादी के बाद भी कृष्णा ने अपनी पढ़ाई जारी रखी और साल 2013 में उन्होंने सिंध विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री हासिल की. वह अपने भाई के साथ एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में पीपीपी में शामिल हुई थीं.



loading...