पाकिस्तान : सीनेट की सदस्यता हासिल करने वाली पहली हिन्दू दलित महिला बनीं कृष्णा कुमारी कोल्ही

आतंकवादी बुरहान वानी को पाकिस्तान ने बताया फ्रीडम आइकॉन, जारी किया डाक टिकट

ऑस्ट्रेलिया में स्ट्रॉबेरी को खाने से डर रहे है लोग, 6 राज्यों में रुकी बिक्री, जानिए- क्या हैं कारण

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम मोदी को लिखा खत, फिर से शुरू करना चाहते हैं शांति वार्ता

भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद नवाज शरीफ, बेटी और दामाद को बड़ी राहत, इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने सजा पर लगाई रोक

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में लोग अपने पसंदीदी फल स्ट्रॉबेरी को खाने से डर रहे हैं जानिए- क्या हैं कारण

जर्मनी में दौड़ने लगी पानी से चलने वाली ट्रेन, धुएं की जगह निकलता है भाप और पानी

2018-03-13_pakistan4.jpg

सोमवार को पाकिस्तान की पहली हिंदू दलित महिला सीनेटर कृष्णा कुमारी कोल्ही ने शपथ ग्रहण कर लिया है. उनके साथ कुल 51 सीनेटरों ने शपथ ग्रहण किया.

जानकारी के मुताबिक , 39 वर्षीय कोल्ही बिलावल भुट्टो जरदारी के नेतृत्व वाले पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) की सदस्य हैं. वह सिंध प्रांत के नागरपारकर जिले के सुदूर ग्रामीण इलाके की रहने वाली हैं.

संघीय और प्रांतीय विधानसभाओं द्वारा 3 मार्च को चुने गए सीनेटरों को पीठासीन अधिकारी सरदार याकूब खान नासर ने सोमवार को शपथ ग्रहण कराया. कोल्ही सिंध प्रांत के अल्पसंख्यक सीट से सीनेटर चुनी गई हैं. संसद भवन में वह अपने परिवार के साथ पारंपरिक थारी पहनावे में पहुंची. थारी, सिंध प्रांत के थारपारकर जिले का एक खास पहनावा है. उनका चुना जाना पाकिस्तान में महिला और अल्पसंख्यक अधिकारों के लिए एक मील का पत्थर है.

बता दें कि एक गरीब किसान जुगनू कोलही के घर वर्ष 1979 में जन्मीं कृष्णा कुमारी कोल्ही और उनके परिवार के सदस्यों ने करीब 3 वर्ष उमेरकोट जिले के कुनरी के एक जमींदार की जेल में बिताये थे. कृष्णा की 16 साल की उम्र में ही शादी हो गई थी. उस वक्त वह नौंवी कक्षा की छात्रा थी. हालांकि शादी के बाद भी कृष्णा ने अपनी पढ़ाई जारी रखी और साल 2013 में उन्होंने सिंध विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री हासिल की. वह अपने भाई के साथ एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में पीपीपी में शामिल हुई थीं.



loading...