शिक्षक दिवस: भारत के अलावा केवल इन देशों में 5 सितम्बर को मनाया जाता है टीचर्स डे, जानिए इसके पीछे की कहानी

2017-09-05_teachers-day.jpg

माना जाता है कि एक गुरु के बिना किसी भी लक्ष्य तक पहुंच पाना संभव नहीं है. गुरु ही आपको जिंदगी जीने का तरीका और उसमें आने वाली मुश्किलों से लड़ने के बारे में बताता है. यही वजह है कि सैकड़ों साल पहले की कई कहानियां ऐसी हैं जिनमें गुरु और शिष्य के रिश्ते को बड़ी ही खूबसूरती से बयां किया गया है.

हमारे देश में हर साल 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाता है. ये दिन भारत के दूसरे राष्ट्रपति और महान शिक्षक डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्‍मदिन के अवसर पर सेलिब्रेट होता है.

राधाकृष्‍णन ने बहुत बड़ा योगदान भारत के शिक्षा क्षेत्र में दिया है. उनका मानना था कि एक शिक्षक का दिमाग देश में सबसे बेहतर दिमाग होता है. एक बार डॉ. राधाकृष्णन के कुछ छात्रों और दोस्तों ने उनसे कहा कि वो उनके जन्मदिन को सेलिब्रेट करना चाहते हैं.

इसके जवाब में डॉ. राधा कृष्णन ने कहा कि मेरा जन्मदिन अलग से मनाने की बजाए इसे टीचर्स डे के रूप में मनाया जाएगा तो मुझे गर्व महसूस होगा. इसके बाद से पूरे भारत में इस दिन 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाने लगा.

भारत की ही तरह दूसरे देश भी शिक्षक दिवस मनाते हैं पर हर देश में इसे 5 सितंबर को नहीं मनाया जाता. कई देश ऐसे हैं जो 5 सितंबर से ठीक एक महीने बाद यानी 5 अक्तूबर को टीचर्स डे मनाते हैं.

वहीं चीन में 1931 में राष्ट्रीय सेंट्रल यूनिवर्सिटी में शिक्षक दिवस की शुरुआत की गई, पर बाद में 1939 में कन्फ्यूशियस के जन्मदिवस 27 अगस्त को शिक्षक दिवस घोषित किया गया लेकिन 1951 में इस घोषणा को वापस ले लिया गया. इसके बाद 1985 में 10 सितंबर को शिक्षक दिवस घोषित किया गया. चीनी लोगों की मांग है कि कन्फ्यूशियस के जन्मदिवस को दोबारा शिक्षक दिवस घोषित किया जाए.

1994 के बाद यूनेस्को ने 5 अक्टूबर को वर्ल्ड टीचर्स डे घोषित कर दिया है. हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान के अलावा मालदीव्स, कुवैत, मॉरीशस, कतर, ब्रिटेन, रूस आदि इसी दिन शिक्षक दिवस मनाते हैं. बतादें चीन 10 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाता है.



loading...