ताज़ा खबर

जानिए कौन थे आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज, इस कारण आए थे चर्चा में

मध्यप्रदेश में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा- कांग्रेस को मूल समेत उखाड़ फेंकना है

मध्यप्रदेश में बोले राहुल गांधी, चौकीदार ने चोरी करवा दी, पीएम मोदी ने यह नहीं बताया बेटी किससे बचानी हैं

भोपाल: भाजपा महाकुम्भ में बोले पीएम मोदी, बोझ बन गई है कांग्रेस, देश के बाहर कर रही है गठबंधन

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बन रहे घरों से PM मोदी और शिवराज की फोटो हटाने के आदेश

मध्यप्रदेश: विधानसभा चुनाव से पहले इन प्रस्तावों पर लगी मुहर, 7 नई तहसीलों का होगा गठन

मध्यप्रदेश में राहुल गांधी ने किया वादा, कांग्रेस सत्ता में आई तो चीनियों के हाथ में होगा ‘मेड इन भोपाल’ का मोबाइल

2018-06-12_Bhayyujimaharaj.jpg

प्रसिद्ध संत भय्यूजी महाराज ने इंदौर स्थित अपने घर में आज कथित रूप से गोली मार कर आत्महत्या कर ली. इंदौर के पुलिस उपमहानिरीक्षक एच सी मिश्रा ने बताया, संत भय्यूजी महाराज ने इंदौर बाइपास स्थित अपने घर में खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली. इंदौर के बॉम्बे अस्पताल के महाप्रबंधक राहुल पाराशर ने बताया कि गोली लगने के बाद उन्हें तुरंत हमारे अस्पताल लाया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया. आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें.

भय्यू महाराज ने पिछले साल 30 अप्रैल 2017 को मध्यप्रदेश के शिवपुरी की डॉ. आयुषी के साथ दूसरी शादी की थी. वह पिछले साल अपनी शादी को लेकर विवादों में फंस गए थे. दरअसल, अभिनेत्री मल्लिका राजपूत ने उन पर मोहजाल में बांधकर रखने का आरोप लगाया था. 

राष्ट्र संत भय्यू महाराज असली नाम उदयसिंह देखमुख है. उनका जन्म वर्ष 1968 को हुआ था. वह शुजालपुर के किसान परिवार से ताल्लुक रखते है. भय्यू महाराज एक गृहस्थ संत थे. बता दें कि उन्होंने कपड़ों के एक ब्रांड के लिए विज्ञापन में मॉडलिंग भी की थी. वह सदगुरु दत्त नाम से एक धार्मिक ट्रस्ट चलाते थे.

भय्यू महाराज का मुख्य आश्रम इंदौर के बापट चौराहे पर है. बता दें कि उनकी पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हुआ था. उनको पहली शादी से एक बेटी कुहू है, जो पुणे में रहकर पढ़ाई कर रही है. वह रोलेक्स ब्रांड की घड़ी पहनते थे और साथ महंगी गाड़ियों का शौक रखते थे.

हाल ही में अध्यात्मिक गुरु भय्यू महाराज का नाम उस वक्त चर्चा में आया था, जब उन्हें मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा दिया था. लेकिन भय्यूजी महाराज ने सरकार के इस फैसले को ठुकरा दिया था. उनको गोली लगने की खबर के बाद शहर में सनसनी फैल गई. भय्यू महाराज को गंभीर हालत में इलाज के लिए इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां अस्पताल ने उनकी मौत की पुष्टि की है. अस्पताल में हजारों की संख्या में उनके पहुंच गए हैं. सुरक्षा के मद्देनजर अस्पताल के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है.



loading...