केरल बाढ़: सुप्रीम कोर्ट का आदेश, मुल्लापेरियार जलाशय का 139 फुट तक बनाए रखें जलस्तर

सबरीमला मंदिर मामले देवासम बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया समर्थन, पुनर्विचार याचिकाओं पर कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला

केरल में राहुल गांधी ने कहा- हमारी सरकारी बनी तो हम सभी भारतीयों को न्यूनतम आय की गारंटी देंगे

सबरीमाला मंदिर में सबसे पहले एंट्री कर दर्शन करने वाली महिला को सास ने पीटा, हॉस्पिटल में भर्ती

गूगल सर्च में Bad Chief Minister सर्च करने पर आ रहा है केरल के सीएम पिनराई विजयन का नाम, समर्थकों ने RSS पर लगाया आरोप

केरल में सबरीमाला मामले को लेकर हिंसक प्रदर्शन, भाजपा और सीपीआईएम नेता के घर बम से हमला

केरल: सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर प्रदर्शन, झड़प में 1 की मौत, CM ने कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश

2018-08-24_kerala-foods-water-level-dam.jpeg

केरल में बाढ़ के हालात को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त तक मुल्लपेरियार बांध का जलस्तर 139 फीट रखने का निर्देश दिया है। शुक्रवार को बेंच ने कहा कि यह आदेश आपदा प्रबंधन के पहलू तक ही सीमित रहेगा। केरल में बाढ़ से जुड़ी याचिका पर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच सुनवाई कर रही है। कोर्ट ने केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, पुड्डुचेरी से जवाब मांगा है। अगली सुनवाई 6 सितंबर को होगी।

मुल्लपेरियार बांध के जलस्तर को लेकर 23 अगस्त को कमेटी की बैठक हुई थी। इसमें तमिलनाडु सरकार से कहा गया कि जलस्तर 139 फीट रखा जाए। सुप्रीम कोर्ट पहले बांध का जलस्तर 141 फीट तय किया था। गुरुवार को केरल सरकार ने हलफनामे में बताया था कि तमिलनाडु के मुल्लपेरियार बांध से अचानक पानी छोड़ना भी राज्य में बाढ़ की वजह है।





loading...