केरल बाढ़: सुप्रीम कोर्ट का आदेश, मुल्लापेरियार जलाशय का 139 फुट तक बनाए रखें जलस्तर

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के खिलाफ तिरुवनंतपुरम कोर्ट में दर्ज कराया मानहानि का मामला

सबरीमाला मंदिर: तीर्थ यात्रियों की गिरफ्तारी को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी, केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोन्स ने की सरकार की आलोचना

सबरीमाला मंदिर: हिन्दू महिला नेता की गिरफ्तारी के बाद सग्राम जारी, केरल बंद

केरल: भारी विरोध-प्रदर्शन के बीच खुले सबरीमाला मंदिर के द्वार, बिना दर्शन किये वापस लौटेंगी तृप्ति देसाई

केरल: आज फिर खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के द्वार, तृप्ति देसाई को एयरपोर्ट पर प्रदर्शनकारियों ने घेरा

सबरीमाला मंदिर मामला: भाजपा-कांग्रेस का सर्वदलीय बैठक से किनारा, सरकार अड़ी

2018-08-24_kerala-foods-water-level-dam.jpeg

केरल में बाढ़ के हालात को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त तक मुल्लपेरियार बांध का जलस्तर 139 फीट रखने का निर्देश दिया है। शुक्रवार को बेंच ने कहा कि यह आदेश आपदा प्रबंधन के पहलू तक ही सीमित रहेगा। केरल में बाढ़ से जुड़ी याचिका पर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच सुनवाई कर रही है। कोर्ट ने केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, पुड्डुचेरी से जवाब मांगा है। अगली सुनवाई 6 सितंबर को होगी।

मुल्लपेरियार बांध के जलस्तर को लेकर 23 अगस्त को कमेटी की बैठक हुई थी। इसमें तमिलनाडु सरकार से कहा गया कि जलस्तर 139 फीट रखा जाए। सुप्रीम कोर्ट पहले बांध का जलस्तर 141 फीट तय किया था। गुरुवार को केरल सरकार ने हलफनामे में बताया था कि तमिलनाडु के मुल्लपेरियार बांध से अचानक पानी छोड़ना भी राज्य में बाढ़ की वजह है।





loading...