ताज़ा खबर

कर्नाटक live: संकट में कुमारस्वामी सरकार, गवर्नर का स्पीकर को आदेश, आज ही हो फ्लोर टेस्ट

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड का आरोपी झारखंड से गिरफ्तार, 8 महीने से छिपा था

बेंगलूरू: भारतीय विज्ञान कांग्रेस में बोले पीएम मोदी- प्रयोगशालाओं में सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प खोजें

कर्नाटक: पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- पड़ोसी देशों में हिंदुओं पर जुल्म, कांग्रेस पाक नहीं शरणार्थियों के खिलाफ बोल रही है

कर्नाटक: येदियुरप्पा सरकार का यूटर्न, मंगलूरू हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को मुआवजा देने का फैसला लिया वापस

Karnataka Bypoll Live: 15 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी, येदियुरप्पा के लिए परीक्षा की घड़ी

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस के 15 विधायकों ने थामा भाजपा का दामन, सीएम येदियुरप्पा भी रहे मौजूद

2019-07-18_Speaker.jpg

कर्नाटक की राजनीतिक संकट पर राज्यपाल ने स्पीकर से कहा, सदन में विश्वास प्रस्ताव विचाराधीन है. स्पीकर आज शाम तक वोटिंग पर विचार करें. बीजेपी नेता और कर्नाटक के पूर्व सीएम बीएस येदियुरप्पा ने विधानसभा में कहा, भले ही आधी रात हो जाए लेकिन वोटिंग आज ही होनी चाहिए. राज्यपाल के बयान के बाद स्पीकर रमेश कुमार ने कहा, राज्यपाल की इच्छा है कि आज ही वोटिंग हो.

राज्यपाल के दफ्तर से एक विशेष अधिकारी स्पीकर रमेश कुमार से मुलाकात करने के लिए विधानसभा पहुंचा है. इससे पहले बीजेपी नेताओं ने राज्यपाल से मुलाकात की थी. स्पीकर रमेश कुमार ने विधानसभा में कहा, कि राज्यपाल ने मैजेस दिया है. इसको मैं विधानसभा में पढ़ूंगा. स्पीकर ने बताया कि राज्यपाल ने संदेश में कहा है कि आज विश्वास मत पर वोटिंग के लिए विचार करें. उन्होंने विश्वास मत पर विचार के लिए कहा है. राज्यापल ने निर्देश नहीं दिया है, इच्छा जताई है. ये सभी बातें राज्यपाल ने स्पीकर को भेजे अपने संदेश में कही थी, जिसको स्पीकर ने विधानसभा में पढ़ा है.

बीजेपी नेता और पूर्व सीएम येदियुरप्पा ने विधानसभा में कहा सभी को समय दें. चाहे रात के 12 ही क्यों न बज जाएं. अगर आप इससे सहमत हैं तो कांग्रेस और जेडीएस के नेताओं को समय दे दें. बीजेपी सिर्फ 5 मिनट के लिए बोलेगी. जरूरत है तो मतदान के साथ आज इसे खत्म करें. वहीं, कुमारस्वामी सरकार में मंत्री कृष्णा गौड़ा ने कहा कि राज्यपाल ने एक संदेश भेजा है और आपने उसके पढ़ लिया है. हमने विश्वास मत लिया है और कुछ कानूनी पहलू हैं. प्रस्ताव पहले से ही विचाराधीन है. विश्वास मत जो विधानसभा का भविष्य तय करेगा. इस पर चर्चा करना सदन के सदस्यों का अधिकार और विशेषाधिकार है.

कांग्रेस के एचके पाटिल ने कहा कि राज्यपाल ने भले ही निर्देश नहीं भेजा हो, हो सकता है कि यह गलत संदेश भेजा गया हो, लेकिन विधानसभा में हस्तक्षेप के लिए ये काफी है. राज्यपाल को सदन की कार्यवाही में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. हमने देखा है कि राज्यपाल का प्रतिनिधि यहां मौजूद है, हम उस व्यक्ति का स्वागत करते हैं, लेकिन हमें इसका पता होना चाहिए था.


 



loading...