ताज़ा खबर

Karnataka Bypoll Live: 15 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी, येदियुरप्पा के लिए परीक्षा की घड़ी

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड का आरोपी झारखंड से गिरफ्तार, 8 महीने से छिपा था

बेंगलूरू: भारतीय विज्ञान कांग्रेस में बोले पीएम मोदी- प्रयोगशालाओं में सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प खोजें

कर्नाटक: पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- पड़ोसी देशों में हिंदुओं पर जुल्म, कांग्रेस पाक नहीं शरणार्थियों के खिलाफ बोल रही है

कर्नाटक: येदियुरप्पा सरकार का यूटर्न, मंगलूरू हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को मुआवजा देने का फैसला लिया वापस

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस के 15 विधायकों ने थामा भाजपा का दामन, सीएम येदियुरप्पा भी रहे मौजूद

कर्नाटक: रात होते बेंगलुरु की सड़कों पर आ जाते थे भूत, खौफ में राहगीर, पुलिस ने 7 लोगों को किया गिरफ्तार

2019-12-05_KarnatakaBYpoll.jpeg

कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए बृहस्पतिवार को सुबह मतदान शुरू हो गया. इन सीटों के चुनाव परिणाम से मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के भविष्य का फैसला होगा कि सरकार बचेगी या जाएगी. सरकार की सलामती के लिए भाजपा को उपचुनाव में कम से कम छह सीट पर जीत हासिल करनी होगी. चुनाव परिणाम 9 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे.

कांग्रेस और जदएस के 17 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराने के बाद 225 सदस्यीय विधानसभा की मौजूदा संख्या 208 है. वर्तमान में भाजपा के विधायकों की संख्या 105 है. इसमें एक निर्दलीय भी है. कांग्रेस के 66 और जदएस के 34 विधायक हैं. इसके अलावा बसपा का एक, एक नामित और एक विधानसभा अध्यक्ष हैं. 15 सीटों पर चुनाव के बाद विधानसभा की क्षमता 223 हो जाएगी. ऐसे में भाजपा को बहुमत के लिए 111 विधायकों का समर्थन चाहिए होगा. सत्ता पक्ष और विपक्ष की संख्या एक समान होने पर विधानसभा अध्यक्ष वोट कर सकते हैं. हालांकि दो सीटें मस्की और आरआर नगर पर चुनाव नहीं कराया जा रहा है.

भाजपा ने उपचुनाव में जीत हासिल करने के लिए अयोग्य ठहराए गए विधायकों में से 13 को पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ाया है. 15 विधानसभा सीटों पर बृहस्पतिवार को सुबह सात से शाम छह बजे के बीच 37.78 लाख मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा ने मतदाताओं से स्थिरता के लिए वोट मांगे जबकि कांग्रेस व जदएस ने सरकार गिरने के लिए जिम्मेदार बागी विधायकों को दंडित करने के लिए वोट देने की अपील की. भाजपा और कांग्रेस ने सभी 15 जबकि जदएस ने 12 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं. इस बीच कांग्रेस और जदएस ने संकेत दिए हैं कि उपचुनाव के बाद भाजपा के पर्याप्त सीट हासिल नहीं करने की स्थिति में दोनों दल एक बार फिर से मिलकर सरकार बना सकते हैं.
 



loading...