Movie Review: रोमांस-ड्रामा और इमोशन से भरी है करण देओल की ‘पल पल दिल के पास’

2019-09-20_PalPalDilKePaas.jpg

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता सनी देओल के बेटे करण देओल की मोस्ट अवेटेड फिल्म 'पल पल दिल के पास' आज (20 सितंबर) सिनेमाघरो में रिलीज हो गई है. इस फिल्म का लोगों को बहुत दिनों से इंतजार था. करण देओल की यह पहली फिल्म हैं. बीते काफी समय से करण देओल अपनी इस डेब्यू फिल्म को लेकर सुर्खियों में बने हुए थे. इस फिल्म का निर्देशन सनी देओल ने खुद किया है. इस फिल्म का नाम साल 1973 में आई धर्मेंद्र की सुपरहिट फिल्म 'ब्लैकमेल' के मशहूर गीत 'पल-पल दिल के पास, तुम रहती हो....' से प्रेरित है. तो आइए, जानते हैं कैसी है करण की पहली बॉलीवुड फिल्म.

फिल्म में करण देओल के साथ सहर बांबा की भी बॉलीवुड में एंट्री हुई है. इस फिल्म में वह लीड एक्ट्रेस की भूमिका में हैं. इस फिल्म में रोमांस के साथ ही एडवेंचर और एक्शन का भी तगड़ा डोज शामिल किया गया है. साथ ही फिल्म में आपको उत्तर भारत में हिमालय के खूबसूरत नजारे भी देखने को मिलेंगे. अगर देखा जाए, तो यह एक लव स्टोरी कहानी है. फिल्म में करण सेहगल नाम के एक युवक के किरादर में आपको करण देओल नजर आएंगे, जो एक ट्रेकिंग कंपनी के मालिक हैं और दूसरी तरफ सहर सेठी नाम की एक लड़की की भूमिका में आपको सहर बांबा दिखाई देंगी, जो एक मशहूर वीडियो ब्लॉगर हैं.

अपने एक नए ब्लॉग की तैयारी में सहर की मुलाकात करण से होती है. सहर, करण के साथ ट्रेकिंग पर निकलती हैं, जहां दोनों के बीच प्यार हो जाता है. ट्रेकिंग के दौरान दोनों काफी वक्त साथ में गुजारते हैं. इस बीच दोनों बीच काफी नोंक झोंक होती है, लेकिन लड़ते-लड़ते दोनों को एक दूसरे से प्यार हो जाता है. अब इन दोनों की लव स्टोरी किस तरह पूरी होगी और होगी भी या नहीं... इसके लिए आपको खुद थिएटर जाकर पूरी फिल्म देखनी होगी. चूंकि दोनों की यह पहली फिल्म थी, इसलिए इनके अभिनय के बारे में बात करना तो बनता है.

करण की अभिनय की बात की जाए, तो वह पर्दे पर काफी नेचुरल लगते हैं, लेकिन उन्हें डायलॉग डिलिवरी के लिए थोड़ा और मेहनत करना पड़ेगा. वैसे इनकी एक्टिंग आपको ठीक ठाक नजर आएगी. वहीं, बात करें सहर की तो यह पर्दे पर काफी कॉन्फिडेंट नजर आती हैं. इमोशनल सीन्स को सहर ने बखूबी निभाया है, लेकिन कॉमेडी सीन्स के लिए इन्हें काफी मेहनत करनी पड़ेगी. वैसे एक्टिंग सहर की काफी असरदार रही है. कुल मिलाकर दोनों की एक्टिंग ठीक ठीक कही जा सकती है. चूंकि यह दोनों की पहली फिल्म थी, इसलिए दर्शक इस जोड़ी को काफी पसंद करने वाली है.

फिल्म के डायरेक्शन के कमान खुद करण के पापा सनी देओल ने संभाला है, इसलिए आपको हिमाचल प्रदेश के कुछ बेहद खूबसूरत नजारे फिल्म में देखने को मिलते हैं जिन पर नजरें ठहर जाती हैं. सनी देओल ने अपने बेटे के लिए कमाल का डायरेक्शन किया है, जिसकी के लिए उनकी तारीफ करनी तो बनती है. कुल मिलाकर देखा जाए तो यह फिल्म एक बार तो देखी जा सकती है. फिल्म की रनिंग स्पीड भी अच्छी है, जो आपको बोर होने नहीं देती. साथ ही फिल्म का संगीत भी आपका दिल को जीतने के लिए काफी हैं.
 



loading...