प्रद्युम्न मर्डर केस: जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड बड़ा फैसला, आरोपी को बालिग मानकर चलेगा मुकदमा

2017-12-20_murdercase647-haryana.jpg

रेयान इंटरनेशनल स्कूल में स्टूडेंट प्रद्युम्न ठाकुर (7 साल) की हत्या के मामले में गिरफ्तार 11वीं क्लास के आरोपी स्टूडेंट को एडल्ट (बालिग) मानकर केस चलेगा। बुधवार को गुड़गांव के जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आगे सुनवाई के लिए केस डिस्ट्रिक्ट एंड सेशन कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया। सुनवाई 22 दिसंबर से शुरू होगी। सेशन कोर्ट में ट्रायल के दौरान अगर आरोपी दोषी साबित हुआ तो उसे बालिग के तौर पर ही सजा मिलेगी। बता दें कि 8 सितंबर को रेयान स्कूल में प्रद्युम्न की गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। अब उसका केस जुवेनाइल कोर्ट की बजाय सेशन कोर्ट में चलेगा।

बता दें कि प्रद्युम्न हत्याकांड में मामले की जांच करने के बाद सीबीआई ने 7 नवंबर को स्कूल के ही 11वीं कक्षा के छात्र को हिरासत में लिया था।

मर्डर केस की जांच कर रही सीबीआई ने कई अहम सबूत जुटा लिए हैं, इनके आधार पर जेजे बोर्ड ने केस सेशन कोर्ट में ट्रांसफर करने कर दिया। सीबीआई ने इसके लिए सिफारिश की थी।  सबूत जुटाने की सिलसिले में मंगलवार को सीबीआई टीम फरीदाबाद की बोस्टन जेल पहुंची। यहां दोपहर 2 से 3 बजे तक फॉरेंसिक टीम ने आरोपी के फिंगर प्रिंट लिए। इस दौरान आरोपी स्टूडेंट के वकील भी मौजूद थे।

बता दें कि 8 सितंबर को रेयान स्कूल में 7 साल के प्रद्युम्न की गला रेतकर बेरहमी से हत्या हुई थी। हरियाणा पुलिस ने उसी दिन स्कूल बस के कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार कर लिया था। बाद में मामला सीबीआई को सौंपा गया, जिसके बाद इस सनसनीखेज हत्याकांड में बड़ा मोड़ आया। सीबीआई ने जांच के बाद स्कूल के ही 11वीं के एक स्टूडेंट को गिरफ्तार किया। 

सीबीआई का दावा है कि आरोपी छात्र ने पीटीएम और परीक्षा को टालने के लिए इस मर्डर को अंजाम दिया था। सीबीआई जांच से हरियाणा पुलिस की भूमिका पर गंभीर सवाल खड़े हुए। आरोपी कंडक्टर को भी जमानत मिल चुकी है।



loading...