ताज़ा खबर

4 जजों के आरोप बेहद गंभीर, जस्टिस लोया की मौत की हो जांच : राहुल

नौकरी के नाम पर UP के युवाओं से घाटी में पत्थरबाजी के लिए बनाया दबाव, जान बचाकर लौटे युवक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

भारत के दो टूक जवाब के बाद त्रिपक्षीय वार्ता पर चीन के बदले सुर, राजदूत के बयान को निजी बताया

मुख्य आर्थिक सलाहकार पद से अरविंद सुब्रमण्यम ने दिया इस्तीफा, कहा- ये सबसे अच्छा जॉब था

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल बोले- रोहित वेमुला की मां का बयान पढ़ने के बाद बेहद चिंतित हूं, कांग्रेस को किया बेनकाब, राहुल मांगे माफी

पीएम मोदी ने नमो ऐप पर किसानों को संबोधित किया, कहा- 2022 तक दोगुनी आय करना हमारी सरकार का लक्ष्य

2018-01-13_rahul5.jpg

सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की ओर से चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा पर लगाए गए गंभीर आरोपों ने सियासी गलियारों में हलचल बढ़ा दी है. इसे लेकर अब कांग्रेस ने सरकार पर हमला बोल दिया है हालांकि उसने इस विवाद पर नपा तुला बयान दिया. इस मसले पर अहम बैठक के बाद राहुल गांधी ने इस पर बयान दिया. उन्होंने जस्टिस लोया की संदिग्ध मौत की जांच कराए जाने की मांग की. 

राहुल से पहले प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जजों के आरोप बेहद परेशान करने वाले हैं. जो हुआ उसके दूरगामी नतीजे होंगे. वहीं, राहुल ने कहा कि 4 जजों ने सवाल पूछे हैं, गंभीर मामला है इसलिए ध्यान से ये बात सुनी जानी चाहिए, जस्टिस लोया की बात उठी है. सुप्रीम कोर्ट के स्तर पर इसकी जांच होनी चाहिए. लीगल सिस्टम पर हम सब भरोसा करते हैं, पूरा हिंदुस्तान भरोसा करता है. ऐसी गंभीर बात उठी है इसलिए ऐसा बयान दे रहे हैं.

वहीं, अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पहले ही कहा है कि ये मामला जल्द सुलझ जाएगा. 

बता दें कि 4 न्यायाधीशों जे चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, एम बी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने आज एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए संवाददाता सम्मेलन किया और CJI दीपक मिश्रा की ओर से केसों के चयनात्मक आवंटन सहित कई समस्याएं गिनाईं. उन्होंने कहा कि देश के शीर्ष अदालत के सामने मौजूद समस्याएं लोकतंत्र को नष्ट कर सकती हैं. बाद में इन्होंने CJI को लिखे पत्र को भी जारी किया.
 



loading...