झारखंड में भूख से एक और मौत! रिक्शेवाले ने दम तोड़ा

2017-10-23_HungerDhanbad.jpg

झारखंड में भूख से तड़पते हुए मौत का एक और मामला सामने आया है. इस बार एक युवक की भोजन ना मिलने से मौत हो गई. युवक धनबाद के झरिया के भालागढ़ा ताराबगान इलाके का रहने वाला था और रिक्शा चलाता था. मृतक का नाम वैद्यनाथ दास था और उसकी उम्र करीब 40 वर्ष थी. मृतक को सरकार योजना का कोई फायदा नहीं मिल पा रहा था. उसके परिवारवालों का कहना है कि गरीबी और भूख से उसकी मौत हो गई.

परिवार का कहना है कि वैद्यनाथ तीन साल से बीपीएल सूची में नाम डलवाने और राशन कार्ड बनवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहा था, लेकिन भाग-दौड़ के बाद भी उसका राशन कार्ड नहीं बन पाया. पिता की मौत पर बेटे का कहना है कि अगर उसके पिता को गरीबों से जुड़ी योजनाओं का लाभ मिलता तो उनकी मौत नहीं होती.

बता दें कि झारखंड में भूख से मौत का यह पहला मामला नहीं है. अभी कुछ दिनों पहले ही यहां 11 साल की बच्ची संतोष कुमारी की मौत भूख से हो गई थी. संतोष की मां कोयली देवी ने बताया कि वह राशन की दुकान पर चावल लेने गई थी लेकिन राशन वाले ने उन्हें चावल देने से साफ इनकार कर दिया.

उनकी बेटी भात-भात पुकारते हुए दुनिया से चली गई. हैरत की बात तो ये है कि कोयली देवी के पास बीपीएल कार्ड भी है लेकिन इसके बावजूद उन्हें राशन नहीं मिल पा रहा था. ऐसी भी जानकारी मिली है कि राशन देने वाले ने इसलिए उनका कार्ड रद्द कर दिया था क्योंकि उससे आधार लिंक नहीं था.



loading...