चंद्रबाबू नायडू, जगनमोहन, पवन कल्याण में अविश्वास प्रस्ताव पर श्रेय लूटने की मची होड़

2018-03-16_pawan_Kalyanmar.jpg

आंध्र प्रदेश की जनता का दिल जीतने के लिए सीएम चंद्रबाबू नायडू, वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगनमोहन, अभिनेता से नेता बने जन सेना प्रमुख पवन कल्याण में होड़ सी मच गई है. केंद्र सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के मुद्दे पर तीनों नेता श्रेय लूटते दिख रहे हैं. जगनमोहन और नायडू तो पहले ही केंद्र के खिलाफ मैदान में डटे हुए थे, अब पवन कल्याण ने भी मोर्चा खोल लिया है.

जन सेना प्रमुख पवन कल्याण ने कहा कि ये सरकार को गिराने का मामला नहीं है, आंध्र को हुए नुकसान पर चर्चा होनी चाहिए. जन सेना ने ही ये बात उठाई थी कि सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाए. बाद में जनता के दबाव में वाईएसआर कांग्रेस और टीडीपी ऐसा करने पर मजबूर हुई.

वाईएसआर कांग्रेस ने जहां शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव लाने का नोटिस दिया था, वहीं टीडीपी ने सोमवार को प्रस्ताव लाएगी. कांग्रेस, एमआईएम और सीपीएम ने इसे समर्थन देने का ऐलान कर दिया है. कांग्रेस का कहना है कि वह आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने का लंबे समय से समर्थन करती आ रही है. वहीं, सीपीएम ने केंद्र की वादाखिलाफी को लेकर समर्थन की बात कही है. असदुद्दीन ओवैसी ने भी अल्पसंख्यकों, रोजगार जैसे मुद्दों पर इस प्रस्ताव का समर्थन किया है.

बता दें कि टीडीपी प्रमुख और आंध्र पद्रेश मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू के साथ एक टेलीकांफ्रेंस के जरिए टीडीपी पोलितब्यूरो ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया. इसी के साथ टीडीपी ने मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव भी लाने का भी ऐलान किया है. सोमवार को टीडीपी की ओर से लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पेश किया जाएगा. कांग्रेस, सीपीएम और एमआईएम ने इसे समर्थन देने का ऐलान भी कर दिया है.



loading...