जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना सकती हैं महबूबा मुफ्ती, हलचल हुईं तेज

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, जैश के 2 कमांडर ढेर, मेजर समेत 4 जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF के काफिले पर आतंकियों ने ग्रेनेड से किया हमला, 18 जवान शहीद, जैश ए मोहम्मद ने ली जिम्मेदारी

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में प्राइवेट स्‍कूल में ब्‍लास्‍ट, 10 से ज्यादा छात्र घायल

जम्मू-कश्मीर: बड़गाम में सेना ने मुठभेड़ में 2 आतंकी को मार गिराया, इलाके में इंटरनेट सेवा बंद

जम्मू-कश्मीर के उरी में आर्मी कैंप के पास दिखे संदिग्ध, फायरिंग के बाद इलाके में सेना और पुलिस का सर्च अभियान जारी

जम्मू-कश्मीर में जवाहर सुरंग के पास हिमस्खलन, 10 पुलिसकर्मी फंसे, नहीं पहुँच पा रही मदद

2018-07-02_PDPCongress.jpg

जम्मू-कश्मीर में एक बार फिर सियासी पारा चढ़ने लगा है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पीडीपी ने कांग्रेस के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाने की पहल की है. इसके लिए सोमवार को नई दिल्ली में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी ने जम्मू कश्मीर के नेताओं संग सरकार बनाने के मुद्दे पर चर्चा की. 

बैठक के बाद कांग्रेस नेता अंबिका सोनी ने कहा कि हमारी मांग है कि राज्य में जल्द से जल्द चुनाव हो. उन्होंने कहा कि हमने आज की बैठक में करीब 100 नेताओं को बुलाला था. जिसमें सांसद, विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक सहित अन्य नेता शामिल हुए. कांग्रेस की प्लानिंग ग्रुप की बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, अम्बिका सोनी, कर्ण सिंह, पी. चिदंबरम और गुलाम नबी आजाद शामिल हुए. आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती भी आज दल्ली में ही हैं. माना जा रहा है कि आज उनकी मुलाकात यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी से हो सकती है.
 
वहीं इसके अलावा मंगलवार को कांग्रेस विधायकों की श्रीनगर में बैठक भी होने वाली है, जिसमें राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा होगी. आपको बता दें कि राज्य में सरकार बनाने के लिए 44 विधायकों की जरूरत है. पीडीपी के पास 28 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के पास 12 विधायक हैं. हालांकि इसके बाद भी दोनों पार्टियों को राज्य में सरकार बनाने के लिए 4 विधायकों की दरकार होगी. कांग्रेस का मानना है कि 3 निर्दलीय विधायक और 1-1 सीपीआईएम-जेकेडीऍफ के विधायक है, जो सरकार बनाने के पक्ष में हैं. उन्हें भरोसा है कि ये विधायक सरकार बनाने में उनकी मदद करेंगे. 

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में महबूबा सरकार से समर्थन वापस लेने का फैसला कर सबका चौंका दिया था. इसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद से अभी राज्य में राज्यपाल शासन लागू है.



loading...