ताज़ा खबर

2010 IAS टॉपर शाह फैसल ने दिया इस्तीफा, इस पार्टी के टिकट पर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

महबूबा मुफ्ती ने पार्टी टूटने के डर से बीजेपी को दी धमकी, PDP को तोड़ने की कोशिश की तो कश्मीर में और सलाउद्दीन पैदा होंगे

कश्मीर में भारी बारिश के चलते रोकी गई अमरनाथ यात्रा, बालटाल मार्ग पर भूस्खलन, 5 श्रद्धालुओं की मौत, 3 घायल

श्रीनगर में झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर, 10 राज्यों में भारी बारिश का अनुमान

भारी बारिश के चलते दूसरी बार रोकी गई अमरनाथ यात्रा, CRPF ने बनाया हेल्पर डेस्का, 19 राज्यों में भारी बारिश का अनुमान

भारी बारिश के चलते रोकी गई अमरनाथ यात्रा, बालटाल-पहलगाम में रुका पहला जत्था, 26 राज्यों में भारी बारिश का अनुमान

कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथ यात्रियों का पहला जत्था जम्मू से रवाना, 40 हजार जवान करेंगे सुरक्षा

2019-01-09_ShahFaesal.jpg

जम्मू-कश्मीर के आईएएस अफसर शाह फैसल ने इस्‍तीफा दे दिया है. कहा जा रहा है कि वह जल्द ही राजनीति‍ में कदम रखेंगे और नेशनल कॉन्‍फ्रेंस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं. संभावना हैं कि वह बारामूला से अगला लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि उनके बारे में कई महीनों से ये कयास लगाए जा र‍हे थे कि वह राजनीति में उतर सकते हैं.

सूत्रों के अनुसार 2010 बैच के टॉपर शाह फैसल ने सोमवार को वॉलेंट्री रिटायरमेंट की मांग की. 35 साल के शाह फैजल कश्‍मीर में कुपवाड़ा जिले के लोलाब घाटी के रहने वाले हैं. अब कहा जा रहा है कि वह बारामूला से चुनाव लड़ सकते हैं.

उन्‍होंने वॉलेंट्री रिटायरमेंट की घोषणा कर दी है, लेकिन माना जा रहा है कि इसके फाइनल होने में अभी टाइम लग सकता है. एक बार उनका त्‍यागपत्र मंजूर हो गया उसके बाद वह नेशनल कॉन्‍फ्रेंस के मुखिया फारुख अब्‍दुल्‍ला और उमर अब्‍दुल्‍ला से मिलेंगे. माना जा रहा है कि इसके बाद पार्टी के नेताओं से उनकी आधि‍कारिक मुलाकात कराई जा सकती है. फैजल जम्मू-कश्मीर सरकार की सेवाओं से छुट्टी पर गए हुए थे. वह फुलब्राइट स्कॉलरशिप लेकर अमेरिका गए हुए थे. 2 जनवरी को वह घाटी पहुंचे थे. इसके बाद ही उन्‍होंने अपने इस्‍तीफे की पेशकश कर दी.

फैजल 2010 के आईएएस टॉपर हैं. वह कश्‍मीर के पहले शख्‍स हैं, जिन्‍होंने आईएएस की परीक्षा में टॉप किया था. आईएएस ज्‍वाइन करने के बाद उन्‍हें स्‍कूल एजुकेशन का डायरेक्‍टर बनाया गया था.

हालांकि सोशल मीडि‍या पर शाह फैजल की कुछ टिप्‍पणियों से विवाद भी हुआ. सोशल मीडिया पर एक बार तो शाह फैसल को एक ट्वीट करना इतना भारी पड़ा कि उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू हो गई. उन्होंने 22 अप्रैल को एक ट्वीट किया, 'पितृसत्ता + जनसंख्या + निरक्षरता + शराब + पोर्न + टेक्नालॉजी + अराजकता = रैपिस्तान!' इस ट्वीट ने उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर दीं. 



loading...