जमाल खशोगी हत्या मामले में अमेरिका संदिग्ध अधिकारियों का वीजा रदद् करेगा

2018-10-24_JamalKhashoggi.jpg

अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या को लेकर अमेरिका ने पहली बार सऊदी अरब पर कार्रवाई की है. अमेरिका ने कहा है कि हत्या में शामिल रहे सऊदी अफसरों का अमेरिकी वीजा खत्म किया जाएगा. वीजा खत्म करने की कार्रवाई तुर्की राष्ट्रपति रेसेप तयिप एर्दोगान के दावे के बाद की गई. एर्दोगान ने कहा था कि खशोगी की हत्या सऊदी दूतावास में ही की गई थी. इसकी साजिश 28 सितंबर को रची गई. खशोगी के शव के टुकड़े इस्तांबुल स्थित सऊदी राजदूत के घर में बगीचे से बरामद हुए थे. उनकी 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी काउंसलेट में हत्या हुई थी.

अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा- हमने 21 सऊदी अफसरों की पहचान की है जिनका वीजा खत्म किया जाएगा और फिर भविष्य में कभी जारी नहीं किया जाएगा. विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि ये प्रतिबंध कोई अंतिम कार्रवाई नहीं है. आगे और खुलासे होने पर हम अन्य कदम उठाएंगे. एक जर्नलिस्ट के खिलाफ हिंसा को अमेरिका बर्दाश्त नहीं करेगा.

तुर्की के राष्ट्रपति का कहना है कि इस मर्डर को अंजाम देने के लिए सऊदी से 15 सदस्यों की एक टीम 2 अक्टूबर को ही इस्तांबुल आई थी. एर्दोगन ने इस मामले को ‘राजनीतिक हत्या’ करार दिया. उन्होंने कहा कि तुर्की की सिक्योरिटी सर्विस के पास इसके पर्याप्त सबूत भी हैं.
तुर्की के अखबार हुर्रियत डेली न्यूज के मुताबिक, एर्दोगन ने कहा कि खशोगी सऊदी के क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान की आलोचना करते थे. इस वजह से उनकी हत्या की गई. दूसरे देशों को भी इस मामले की जांच में शामिल होना चाहिए.

जांच अधिकारियों के मुताबिक, एक अक्टूबर को सऊदी के तीन नागरिक इस्तांबुल आए. वहीं, 2 अक्टूबर को 15 लोगों का एक और ग्रुप इस्तांबुल आया और सऊदी काउंसलेट चला गया. जांच में सामने आया है कि सऊदी से आए नए दल ने काउंसलेट में लगे सिक्योरिटी कैमरों की हार्ड डिस्क निकाल दी थी.

2 अक्टूबर को दोपहर के वक्त खशोगी काउंसलेट में गए और दोबारा नजर नहीं आए, जबकि उनकी मंगेतर काउंसलेट के बाहर ही रात 1 बजे तक इंतजार कर रही थीं. हालांकि, सऊदी अरब के अधिकारी पत्रकार के बारे में जानकारी होने से लगातार इनकार करते रहे. एर्दोगन ने कहा, मैंने 14 अक्टूबर को सऊदी के किंग सलमान से जांच के लिए संयुक्त टीम बनाने के लिए कहा, जिससे हमारे अधिकारी दूतावास के अंदर जा सकें. 17 दिन बाद सऊदी अरब ने कबूल किया कि काउंसलेट में खशोगी की हत्या हो गई थी.

सऊदी अरब के किंग सलमान और क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने मंगलवार को रियाद में वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार खशोगी के परिजनों से मुलाकात की. स्थानीय न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सऊदी के शासकों ने शाही महल में खशोगी के बेटे सलाह और भाई सहेल से बातचीत की.



loading...