सीएम कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी जारी, मध्यप्रदेश में बढ़ा सियासी पारा

कर्नाटक-गोवा संकट के बीच मध्यप्रदेश में अलर्ट हुई कांग्रेस, बंद कमरे में सीएम-डिप्टी सीएम ने की मुलाकात

मध्यप्रदेश में गौ-तस्करी के शक में 20 लोगों को पकड़ा, ग्रामीणों ने रस्सी से बांधकर पीटा, ‘गौ-माता की जय’ के लगवाए नारे

पीएम मोदी की नाराजगी के बाद भाजपा ने विधायक आकाश विजयवर्गीय को भेजा कारण बताओ नोटिस

मध्यप्रदेश: बैट कांड पर कैलाश विजयवर्गीय ने नगर निगम अधिकारी और बेटे को बताया कच्चा खिलाड़ी

महाराष्ट्र: मुंबई में भारी बारिश से कई जगहों पर ट्रैफिक जाम, रेलवे यातायात भी प्रभावित

मध्यप्रदेश: लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद इस्तीफा देना चाहते थे सीएम कमलनाथ

2019-04-08_ITRaidMP.jpg

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ और सलाहकार राजेंद्र कुमार मिगलानी के दिल्ली स्थित आवास व इनसे जुड़े अन्य लोगों के ठिकानों पर इनकम टैक्स की कार्रवाई अभी भी जारी है. शहर सहित भोपाल, इंदौर, दिल्ली और देशभर में 50 स्थानों पर 300 से ज्यादा आयकर अधिकारियों ने यह कार्रवाई की है. इस कार्रवाई में कमलनाथ के भांजे रातुल पुरी, अमिरा और मोजर बीयर कंपनी भी शामिल हैं. इंदौर में कक्कड़ के विजय नगर स्थित शोरूम, बीएमसी हाइट्स स्थित ऑफिस, शालीमार टाउनशिप और जलसा गार्डन, भोपाल स्थित घर श्यामला हिल्स, प्लेटिनम कॉलोनी सहित अन्य स्थानों पर भी जांच की जा रही है.

बताया जा रहा है कि सर्विस के दौरान ही कई जांच चल रही थी. कार्रवाई में भोपाल में प्रतीक जोशी के घर से 9 करोड़ रुपये नकद राशि मिलने की बात सामने आ रही है, इन्हें प्रवीण कक्कड़ से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है. इंदौर के ऊषा नगर में इनके सीए राजेंद्र रांका के घर भी छापा मारा गया है. कक्कड़ जब पुलिस अधिकारी थे तभी उनके खिलाफ कई मामले सामने आए थे. वे सीएम कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और कांतिलाल भूरिया के काफी करीबी माने जाते हैं. जब आयकर विभाग की टीम देर रात पहुंची तो उनके परिवार के लोग घबरा गए थे. जब उन्हें पुख्ता हो गया कि ये सभी आयकर के अधिकारी हैं तो उन्होंने जांच में सहयोग किया.

प्रवीण कक्कड़ को पुलिस विभाग में रहने के दौरान उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था. इसके बाद उन्होंने 2004 में अपने नौकरी छोड़ दी और कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बन गए. कहा जाता है कि 2015 में कांतिलाल भूरिया को रतलाम-झाबुआ सीट पर मिली जीत प्रवीण कक्कड़ द्वारा बनाई रणनीति से मिली. दिसंबर 2018 में वे सीएम कमलनाथ के ओएसडी बने थे. वहीं सीएम कमलनाथ से जुड़े लोगों के घर छापेमार कार्रवाई पर राज्य निर्वाचन कार्यालय के सीईओ वीएस कांताराव का कहाना है कि ''छापा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के दिल्ली ऑफिस से डाला गया है. भोपाल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को इसकी कोई सूचना नहीं है.''

राज्य निर्वाचन कार्यालय के सीईओ वीएस कांता राव ने केंद्रीय चुनाव आयोग को पूरी कार्रवाई की सूचना भेज दी है. वीएस कांताराव ने इस पूरी कार्रवाई की सुबह 8 बजे तक की सूचना दी गई है. इसके बाद शाम 7 तक कोई अपडेट नहीं दिया गया है. वहीं रात 1:30 बजे आयकर अधिकारी अश्विन शर्मा के प्लेटिनम प्लाजा स्थित दफ्तर से एक सूटकेस और एक बैग भर कर निकले. आपको बता दें प्लेटिनम प्लाजा में ही अश्विनी शर्मा का फ्लैट और ऑफिस स्थित है. जहां आयकर अधिकारियों की कार्रवाई अभी भी जारी है.



loading...