ताज़ा खबर

पाकिस्तान में भारतीय राजदूतों को किया जा रहा परेशान, नहीं दी जा रहीं ये सेवाएं

सार्वजनिक रूप से गवाही देंगे रॉबर्ट मूलर, जनता को बताएंगे कि ट्रंप को जिताने में रूस ने कैसे मदद की थी

अमेरिका और ईरान के बीच चरम पर विवाद, ट्रंप ने कड़े प्रतिबंध लगाने वाले कार्यकारी आदेश पर किए हस्ताक्षर

पाकिस्तान को मिली चेतावनी, आतंकियों को पैसा देना बंद करो, नहीं तो नतीजा भुगतने को तैयार हो जाओ

एयर स्ट्राइक से सदमे में पाकिस्तान, अपना हवाई क्षेत्र खोलने के लिए भारत के सामने रखी शर्त, कहा- बालाकोट जैसा हमला फिर न हो

ड्रोन ढेर होने के बाद ट्रंप ने दी थी ईरान पर हमले की मंजूरी, लेकिन बाद में बदला फैसला

ईरान ने मार गिराया अमेरिका का शक्तिशाली ड्रोन, न्यूयॉर्क से मुंबई आने वाली फ्लाइट रदद्

2019-01-01_IndianHighCommssion.jpg

भारतीय उच्चायोग ने अपने राजनयिकों के उत्पीड़न का मामला पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के सामने उठाया है. दरअसल, पिछले कुछ दिनों से ऐसी रिपोर्ट्स आ रही थीं कि पाक सरकार जानबूझकर राजनयिकों को परेशान करने के लिए उनके घरों की बिजली काट रही है. शिकायतों के बाद भारतीय मिशन ने एक नोट जारी कर पाक को चेतावनी दी है.

राजनयिकों के उत्पीड़न का सबसे ताजा मामला 25 दिसंबर का है. क्रिसमस के मौके पर भारत के सेकंड सेक्रेटरी के घर की बिजली शाम 7 से 10:45 बजे के बीच काट दी गई थी. इससे पहले 21 दिसंबर को भी एक राजनयिक के घर की पावर सप्लाई बंद कर दी गई थी.

भारतीय उच्चायोग ने आरोप लगाया है कि 25 दिसंबर को राजनयिक के घर पर कोई फॉल्ट नहीं था, बल्कि जानबूझकर उनके घर की बिजली काटी गई थी. अधिकारियों ने पाक विदेश मंत्रालय से कहा है कि वे यह सुनिश्चित करें कि राजनयिकों के साथ भविष्य में इस तरह की घटनाएं न हों, क्योंकि इससे अफसरों के परिवार को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

पिछले हफ्ते भी राजनयिकों ने विदेश मंत्रालय से उत्पीड़न की शिकायत की थी. अफसरों का आरोप था कि उन्हें नए गैस कनेक्शन नहीं दिए जा रहे. कई वरिष्ठ भारतीय अधिकारियों की इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं. सुरक्षा में कमी के चलते एक अनजान व्यक्ति भारतीय अफसर के घर में घुस गया था.

उच्चायोग के एक सूत्र ने पिछले हफ्ते ही दावा किया था कि पाकिस्तान में हाईकमीशन की बिल्डिंग और प्रोजेक्ट को पिछले 10 साल से रोका गया है. वहां पहुंचने वाले फर्नीचर और सामान को बॉर्डर पर रोका गया है. साथ ही टेलिफोन कनेक्शन भी नहीं जारी किया गया है. इसके बाद भारत ने इस मामले को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के सामने उठाया है. 


 



loading...