ताज़ा खबर

Asia Cup 2018: भारत-अफगानिस्तान का रोमांचक मैच हुआ टाई, धोनी के नाम एक और रिकॉर्ड

2018-09-26_indvsafg.jpg

अफगानिस्तान ने टीम इंडिया के साथ हुए एशिया कप के सुपर-4 के आखिरी मैच को टाई कर उलटफेर कर दिया. टीम इंडिया ने इस मैच में अपने कई नियमित खिलाड़ियों को आराम दिया था. अफगानिस्तान की टीम ने इस मैच में शानदार बल्लेबाजी की और टीम इंडिया को जीत के लिए 253 रनों को लक्ष्य दिया. लेकिन इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया के विकेट जब एक बार गिरने शुरू हुए तो अफगान गेंदबाजों ने टीम इंडिया को वापसी करने नहीं दी. टीम इंडिया के इस मैच में जीत हासिल न कर पाने के 5 खास कारण थे.

मोहम्मद शहजाद ने अफगानिस्तान के लिए शानदार बल्लेबाजी की. भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और यजुवेंद्र चहल के बिना उतरी भारतीय टीम के गेंदबाजों की शहजाद ने खूब खबर लेते हुए शतकीय पारी खेल डाली. शहजाद ने अपने करियर का 5वां शतक लगाया. वे भारत के खिलाफ पहला शतक लगाने वाले अफगानी बल्लेबाज बन गए हैं.  शाहजाद ने पारी के 29वें ओवर में अपना शतक पूरा किया. उन्होंने 89 गेंदों में 10 चौकों और छह छक्कों की मदद से अपना शतक पूरा किया. 29 ओवर तक अफगानिस्तान के पांच विकेट के नुकसान पर 133 रन बन चुके थे. इनमें 104 रन केवल मोहम्मद शहजाद ने बनाए थे. शहजाद इस पारी में 116 गेंदों में 124 रन बनाकर आउट हुए. उन्होंने अपनी पारी में कुल 11 चौके और 7 छक्के लगाए.

मोहम्मद शहजाद के शतक के बाद मोहम्मद नबी ने ताबड़तोड़ 64 रनों की पारी खेली. मोहम्मद नबी ने केवल 56 गेंदों पर 3 चौकों और चार छक्कों की मदद से 64 रन बनाए. मोहम्मद नबी 29वें ओवर में जब बल्लेबाजी करने आए थे तब टीम का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 132 रन था. उस समय मोहम्मद शहजाद ने अपना शतक पूरा किया ही था. नबी ने आते ही चुन-चुन कर शॉट्स खेले और 35 ओवर तक अपनी टीम का स्कोर 165 रन कर दिया. तब शहजाद 116 रन और नबी 17 रन बना चुके थे.

टीम इंडिया के लिए अंबाती रायडू और केएल राहुल ने अर्धशतक लगाते हुए 16 ओवर में ही टीम का स्कोर 100 रन कर दिया लेकिन उसके बाद जब दोनों आउट हुए तब अफगानिस्तान के गेदबाजों ने अपनी कसी हुई गेंदबाजी में टीम इंडिया के बल्लेबाजों को शिकंजे से बाहर जाने नहीं दिया और भारत की बड़ी साझेदारी पनपने नहीं दी. मिडिल ऑर्डर जहां अफगान गेंदबाजों के सामने संघर्ष करता दिखा तो आखिर में तीन रन आउट ने टीम की कमर ही तोड़कर रख दी. कोई भी बल्लेबाज अंत तक जिम्मेदारी निभाने के जज्बे के साथ खेलता नहीं दिखा. ऐसा लगा कि टीम इंडिया के बल्लेबाज के लिए स्पिन कोई नई चीज है.

अपनी कप्तानी का 200वां वनडे मैच खेल रहे एमएस धोनी से उम्मीद थी कि वे टीम के लिए बढ़िया बल्लेबाजी करेंगे लेकिन वे टिककर नहीं खेल सके और केवल 8 रन बनाकर अफगान स्पिनर्स के जाल में फंस ही गए. इसी तरह मनीष पांडे भी अपना विकेट बचा नहीं सके और केवल 8 रन बनाकर तेज गेंदबाज आफताब आलम की गेंद पर विकेट के पीछे कैच थमा कर पवेलियन वापस लौट गए. दिनेश कार्तिक ने जरूर जुझारू पारी खेली लेकिन वे भी 44 रन बनाकर नाजुक मौके पर आउट हो गए. उन्हें धोनी, मनीष, केदार जाधव, किसी का भी साथ नहीं मिला.

इस मैच में अफगानिस्तान के गेंदाबजों ने शानदार गेंदाबाजी की. गेंदबाजों ने नियमित अंतराल पर भारत के विकेट गिराने में कामयाबी हासिल की. टीम इंडिया के कई धुरंधर बल्लेबाज अफगान स्पिनर्स की फिरकी में फंसे. केएल राहुल, कप्तान धोनी, दिनेश कार्तिक जैसे अहम बल्लेबाज एलबीडब्ल्यू आउट हुए. आखिरी ओवर्स में भी टीम को आखिरी 5 ओवर में जीत के लिए 27 रन चाहिए थे. इस समय तक टीम इंडिया के 7 विकेट गिर चुके थे.



loading...