परमाणु मिसाइल अग्नि 2 का परीक्षण, 2000 किलोमीटर तक दूर तक है मारक क्षमता

CBI विवाद: CVC की जांच में आलोक वर्मा को क्लीन चिट नहीं, 20 नवंबर को फिर होगी सुनवाई

गणतंत्र दिवस पर मुख्‍य अतिथि हो सकते हैं दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्रपति सीरिज रमाफोसा

शाहिद अफरीदी के पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे, कश्मीर क्या संभालेंगे वाले बयान पर राजनाथ सिंह ने कही ये बात

NSG ने चिट्ठी लिखकर बताया, लाल कृष्ण आडवाणी, गुलाम नबी आजाद और फारूक अब्दुल्ला की सुरक्षा में हुई लापरवाही

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा- भगवान राम भी नहीं चाहेंगे कि किसी विवादास्‍पद स्‍थल पर मंदिर बने

ISRO को अंतरिक्ष में मिली बड़ी सफलता, श्रीहरिकोटा से लांच किया संचार उपग्रह जीसैट-29

2018-02-20_agniiiballisticmissile.jpeg

ओडिशा के एपीजे अब्दुल कलाम आईलैंड से मंगलवार को अग्नि-II इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (IRBM) का टेस्ट किया गया। ये टेस्ट स्ट्रैटजिक फोर्स कमांड (SFC) ने किया। मिसाइल की रेंज 2000 किमी है। इसे बढ़ाकर 3 हजार किमी किया जा सकता है। अग्नि-II मिसाइल न्यूक्लियर हथियार ले जा सकने में सक्षम है।

अग्नि को 2004 में ही सेना में शामिल कर लिया गया था। ये जमीन से जमीन तक मार करने वाली मिसाइल है। अग्नि-II एक टन तक न्यूक्लियर वॉरहेड ले जाने में कैपेबल है। 20 मीटर लंबी अग्नि मिसाइल को डीआरडीओ की एडवांस्ड सिस्टम्स लेबोरेटरी ने तैयार किया है। अग्नि को इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम (IGMDP) के तहत तैयार किया गया है।

क्या खास है अग्नि में?
- दो स्टेज की मिसाइल, सॉलिड फ्यूल से चलेगी।
- लंबाई: 20 मीटर
- वॉरहेड: 1000 किलो ले जाने में कैपेबल
- रेंज: 2000 किमी
- कौन से इक्विपमेंट लगे: सटीक निशाने पर पहुंचने के लिए हाईएक्युरेसी नेविगेशन सिस्टम।

अग्नि-II को अब्दुल कलाम (व्हीलर) आइलैंड से दागा गया। रडार और इलेक्ट्रो-ऑप्टिक इंस्ट्रूमेंट्स से इसपर नजर रखी गई। अग्नि-II ने बंगाल की खाड़ी में रखे गए 2 जहाजों पर निशाना लगाया।



loading...