बेनामी संपत्ति पर मोदी सरकार का चला हथौड़ा, साल भर में जब्त की 3500 करोड़ की संपत्ति

2018-01-11_income-tax-attch.jpg

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (ITD) ने गुरुवार को बताया कि उसने 3,500 करोड़ रुपए की बेनामी प्रॉपर्टी जब्त की है। यह कार्रवाई 900 से ज्‍यादा केस में की गई। डिपार्टमेंट की ओर से अटैच की गई प्रॉपटी में प्‍लॉट, फ्लैट, शॉप्‍स, ज्‍वैलरी, व्‍हीकल्‍स, बैंक डिपॉजिट और एफडी आदि शामिल हैं। अटैच की गई प्रॉपर्टीज में 2900 करोड़ रुपए से ज्‍यादा की अचल संपत्ति है। बता दें, बेनामी प्रॉपर्टी एक्‍ट 1 नवंबर 2016 से लागू हो गया है।

डिपार्टमेंट ने 5 केसेस में 150 करोड़ वैल्यू की प्रॉपर्टी अटैच्ड कर दी है। एक केस में ये सामने आया है कि रियल स्टेट कंपनी ने 50 एकड़ जमीन हासिल की, जिसकी वैल्यू 110 करोड़ थी, लेकिन इसके लिए कंपनी ने फर्जी नामों का इस्तेमाल किया यानी बेनामीदारों का। एक और मामले में दो लोगों ने नोटबंदी के बाद अपनी कंपनी के इम्प्लॉई और उससे जुड़े लोगों के बैंक अकाउंट में डिमोनेटाइज्ड करंसी जमा की। ये रकम 39 करोड़ थी।

बेनामी एक्ट के तहत बेनामी प्रॉपर्टी के तुरंत अटैचमेंट और फिर जब्ती का अधिकार है, चाहे वो चल हो या फिर अचल। इसके तहत मालिक और बेनामी ट्रांजैक्शन करने वाले के खिलाफ केस भी दर्ज करने का भी प्रावधान है। इसमें 7 साल तक जेल और प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू का 25% लगाया जाता है। ITD ने इन्वेस्टिगेशन डायरेक्टोरेट के तहत देशभर में 24 बेनामी प्रॉहिबिशन यूनिट्स (BPUs) बनाए हैं ताकि बेनामी प्रॉपर्टी के खिलाफ तेजी से एक्शन लिया जा सके।

ITD ने कहा कि ब्लैकमनी और बेनामी ट्रांजैक्शंस के खिलाफ हमारा अभियान लगातार जारी रहेगा।

बेनामीदार यानी दूसरे की प्रॉपर्टी का गलत तरीके से फायदा लेने वाला या ऐसा शख्स जो बेनामी प्रॉपर्टी को छुपाने या हेरफेर करने में शामिल है, उसे बेनामी ट्रांजैक्शन (प्रोहिबिशन) अमेंडमेंट एक्ट 2016 के तहत सात साल की कैद हो सकती है। इसके अलावा उस पर 25% फाइन लगाया जाएगा।

इस कानून में एक और सेक्शन है। इसके मुताबिक, बेनामी प्रॉपर्टी एक्ट के तहत गलत जानकारी देना या जानकारी छुपाना, अफसरों को गुमराह करना भी कानूनन जुर्म होगा। इस सेक्शन में 5 साल की सजा और बेनामी प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू का 10% जुर्माना लगाया जाएगा। बेनामी प्रॉपर्टी सील की जा सकती है या सरकार अपने कब्जे में ले सकती है। दोषी के खिलाफ इनकम एक्ट 1961 के तहत भी कार्रवाई की जा सकती है।

, ,


loading...