ताज़ा खबर

मोहम्मद कैफ के बयान पर पाक पीएम इमरान खान ने कहा- हम अल्पसंख्यकों को बराबरी का दर्जा देंगे

2018-12-26_ImranKaif.jpg

भारत में असहिष्णुता को लेकर जारी बहस के बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर अल्पसंख्यकों पर बयान दिया है. इमरान ने कहा कि हम अल्पसंख्यकों को बराबरी का दर्जा देंगे. पाक पीएम का यह बयान भारत के पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ के अल्पसंख्यकों पर दिए बयान के कुछ घंटे बाद आया. इसमें कैफ ने कहा था कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसा व्यवहार किया जाए, इस पर पाक को नसीहत देने की जरूरत नहीं है.

मोहम्मद कैफ ने मंगलवार को ट्वीट किया था- बंटवारे के समय पाकिस्तान में 20% अल्पसंख्यक थे. अब 2% से भी कम बचे हैं. दूसरी तरफ, आजादी के बाद से भारत में अल्पसंख्यकों की तादाद में काफी इजाफा हुआ है. पाकिस्तान तो ऐसा आखिरी देश होगा, जिसे अल्पसंख्यकों के साथ बर्ताव को लेकर नसीहत देनी चाहिए.

कैफ के ट्वीट के कुछ घंटों बाद इमरान ने ट्वीट किया- हमारी सरकार ये निश्चित करेगी कि पाकिस्तान में सभी समुदायों के साथ एक जैसा बर्ताव हो. भले ही भारत में कुछ भी हो रहा हो. जैसा कि हमारे संस्थापक मो. अली जिन्ना ने कल्पना की थी, पाकिस्तान आज उसी तरह अल्पसंख्यकों के अधिकार के लिए खड़ा है. जिन्ना ने लोकतांत्रिक, न्यायपूर्ण और दयावान पाकिस्तान की कल्पना की थी. वह चाहते थे कि अल्पसंख्यकों को हमारे नागरिकों के बराबर दर्जा मिले.

इससे पहले इमरान ने कहा था- हम हिंदुस्तान को दिखा देंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसा बर्ताव किया जाता है. भले ही भारत में कुछ भी हो रहा हो. अलग पाकिस्तान के लिए जिन्ना का संघर्ष तब शुरू हुआ था, जब उन्हें यह अहसास हो गया था कि हिंदुस्तान में बहुसंख्यक हिंदू अल्पसंख्यक मुस्लिमों के साथ बराबरी का व्यवहार नहीं करेंगे.

इमरान का बयान नसीरुद्दीन शाह के बयान को लेकर आया था. नसीरुद्दीन ने भारत के माहौल को लेकर बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि जिस तरह का माहौल चल रहा है, उसे देखकर अपने बच्चों की फिक्र होती है. आज इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा गाय की मौत को तवज्जो दी जाती है. हालांकि, इमरान के बयान पर नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि इमरान को केवल उन मुद्दों की बात करनी चाहिए, जो उनसे जुड़े हैं. हमारे देश में 70 साल से लोकतंत्र है और हमें पता है कि मसलों को कैसे सुलझाना है.



loading...