शरद यादव की विवादित टिप्‍पणी पर राजे ने कहा- मैं अपमानित महसूस कर रही हूं, चुनाव आयोग को एक्शन लेना चाहिए

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा- मोदी सरकार जवानों की सहादत को व्यर्थ नहीं जाने देगी

बीकानेर जमीन घोटाले में दूसरे दिन वाड्रा से ED की पूछताछ शुरू, प्रियंका वाड्रा ने कही ये बात

आरक्षण की मांग को लेकर पांचवे दिन भी गुर्जर समाज का आंदोलन जारी, रेल सेवा के साथ बस यातायात भी प्रभावित

राजस्थान में उग्र हुआ गुर्जर आंदोलन, रेलवे ट्रैक पर धरना जारी, झुकने को तैयार नहीं बैसला

राजस्थान: आरक्षण की मांग को लेकर दूसरे दिन भी गुर्जर समाज का आंदोलन जारी, 5 ट्रेनें रदद्, कई के रूट बदले

राजस्थान में राहुल गांधी ने कहा- केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो देशभर के किसानों का कर्जा माफ करेंगे

2018-12-07_VasundharaRaje.jpg

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शरद यादव पर पलटवार किया है. राजे ने शुक्रवार को महिलाओं के लिए बने पिंक बूथ पर वोट डालने के बाद पत्रकारों से कहा कि चुनाव आयोग को शरद यादव पर कार्रवाई करनी चाहिए. राजे ने आगे कहा कि मैं आश्चर्यचकित हूं, मैं अपमान महसूस कर रही हूं. शरद को अपनी भाषा पर संयम रखना चाहिए, उन्होंने मेरा नहीं सभी महिलाओं का अपमान किया है.

कांग्रेस पर हमला करते हुए राजे ने कहा के "क्या वो यही उदाहरण युवाओं के लिए सेट करना चाहते हैं? कांग्रेस और उसके सहयोगियों को अपनी भाषा में पाबंदी लगानी चाहिए." शुक्रवार को अलवर में यादव की अपमानजनक टिप्पणियों के बाद राजस्थान में बीजेपी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है.

राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर राजे ने दावा किया कि प्रदेश में फिरसे हमारी सरकार बनेगी. सभी ने इस चुनाव के लिए कड़ी मेहनत की है. राजे ने आगे कहा हमने प्रदेश में विकास का काम किया है और जनता विकास के लिए वोट करेगी. 

आपको बता दें कि राजस्थान में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व जदयू नेता शरद यादव ने अभद्र टिप्पणी कर दी. गुरुवार को उन्होंने कहा कि अब वसुंधरा राजे को आराम करने के लिए भेज दो क्योंकि अब वह काम करने के योग्य नहीं रह गई हैं. वह अब बहुत मोटी हो गई हैं पहले बहुत पतली थी. हालांकि उनके बयान के बाद जब हंगामा मचा तो यादव ने सफाई दी और कहा कि उनका किसी का अपमान करने का कोई इरादा नहीं था.

भाजपा ने शरद यादव की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उनकी यह टिप्पणी बेहद शर्मनाक है और किसी सभ्य व्यक्ति से इसकी उम्मीद नहीं की जा सकती. उन्हें अपने बयान के लिए स्वयं ही माफी मांगनी चाहिए. 

शरद यादव पहले भी अपनी विवादित टिप्पणियों के लिए जाने जाते रहे हैं. महिला आरक्षण के मुद्दे पर संघर्ष करने वाली महिलाओं को उन्होंने 'परकटी औरतें' कह दिया था जिसके बाद हंगामा खड़ा हो गया था.



loading...