ताज़ा खबर

शरद यादव की विवादित टिप्‍पणी पर राजे ने कहा- मैं अपमानित महसूस कर रही हूं, चुनाव आयोग को एक्शन लेना चाहिए

गहलोत-पायलट के शपथ ग्रहण समारोह में वसुंधरा राजे ने भतीजे सिंधिया को गले लगाकर दिया आशीर्वाद

राजस्थान के तीसरी बार CM बने अशोक गहलोत, सचिन पायलट को मिली डिप्टी सीएम की कमान

राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे अशोक गहलोत, सचिन पायलट को डिप्टी सीएम का पद

राजस्‍थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को लेकर कांग्रेस में अभी भी सस्पेंस, राहुल के आवास पर बैठकों का दौर शुरू

राजस्थान में सीएम के नाम के ऐलान में देरी होने पर पायलट के समर्थकों ने हाइवे किया जाम, भोपाल में सिंधिया और कमलनाथ के समर्थकों का हंगामा

विधानसभा चुनाव परिणाम: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में मायावती को बड़ी सफलता, अखिलेश को बड़ा नुकसान

2018-12-07_VasundharaRaje.jpg

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शरद यादव पर पलटवार किया है. राजे ने शुक्रवार को महिलाओं के लिए बने पिंक बूथ पर वोट डालने के बाद पत्रकारों से कहा कि चुनाव आयोग को शरद यादव पर कार्रवाई करनी चाहिए. राजे ने आगे कहा कि मैं आश्चर्यचकित हूं, मैं अपमान महसूस कर रही हूं. शरद को अपनी भाषा पर संयम रखना चाहिए, उन्होंने मेरा नहीं सभी महिलाओं का अपमान किया है.

कांग्रेस पर हमला करते हुए राजे ने कहा के "क्या वो यही उदाहरण युवाओं के लिए सेट करना चाहते हैं? कांग्रेस और उसके सहयोगियों को अपनी भाषा में पाबंदी लगानी चाहिए." शुक्रवार को अलवर में यादव की अपमानजनक टिप्पणियों के बाद राजस्थान में बीजेपी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है.

राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर राजे ने दावा किया कि प्रदेश में फिरसे हमारी सरकार बनेगी. सभी ने इस चुनाव के लिए कड़ी मेहनत की है. राजे ने आगे कहा हमने प्रदेश में विकास का काम किया है और जनता विकास के लिए वोट करेगी. 

आपको बता दें कि राजस्थान में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व जदयू नेता शरद यादव ने अभद्र टिप्पणी कर दी. गुरुवार को उन्होंने कहा कि अब वसुंधरा राजे को आराम करने के लिए भेज दो क्योंकि अब वह काम करने के योग्य नहीं रह गई हैं. वह अब बहुत मोटी हो गई हैं पहले बहुत पतली थी. हालांकि उनके बयान के बाद जब हंगामा मचा तो यादव ने सफाई दी और कहा कि उनका किसी का अपमान करने का कोई इरादा नहीं था.

भाजपा ने शरद यादव की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उनकी यह टिप्पणी बेहद शर्मनाक है और किसी सभ्य व्यक्ति से इसकी उम्मीद नहीं की जा सकती. उन्हें अपने बयान के लिए स्वयं ही माफी मांगनी चाहिए. 

शरद यादव पहले भी अपनी विवादित टिप्पणियों के लिए जाने जाते रहे हैं. महिला आरक्षण के मुद्दे पर संघर्ष करने वाली महिलाओं को उन्होंने 'परकटी औरतें' कह दिया था जिसके बाद हंगामा खड़ा हो गया था.



loading...