अमेरिका ने H-1बी वीजा में प्रस्तावों को खारिज किया, 7.5 लाख भारतीयों को मिली बड़ी राहत

2018-01-09_Huge-relief-for-Indians.jpg

अमेरिका में रह रहे और काम करने वाले विदेशी नागरिकों और भारतीयों के लिए राहत भरी खबर है। यूएस में काम करने वाले इंजीनियर्स, खासकर भारतीयों को राहत देते हुए ट्रंप प्रशासन ने एच-1 बी वीजा नियमों को जटिल बनाने के प्रस्ताव पर रोक लगा दी है। 

सोमवार को घोषणा करते हुए ट्रंप प्रशासन ने कहा कि हम ऐसे किसी प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दे रहे हैं जिसके कारण हजारों की संख्या में अमेरिका में स्थायी निवास के लिए आवेदन करने और वर्षों से काम कर रहे एच-1 बी वीजा धारकों को देश छोड़कर जाना पड़े। 

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिकी नागरिकता और आप्रवासन सेवाओं (यूएससीआईएस) में मीडिया रिलेशंस के चीफ ऑफ जोनाथन विदिंगटन ने कहा, "यूएससीआईएस ऐसे किसी परिवर्तन पर विचार नहीं कर रहा है जो एच -1 बी वीजा धारकों को संयुक्त राज्य छोड़ने के लिए मजबूर करे। कानून उन्हें एच -1 बी में 6 साल की सीमा से ज्यादा बढ़ोतरी की अनुमति प्रदान करता है।"

बता दें कि कई अमेरिकी सांसदों और संगठनों ने ट्रंप प्रशासन के उस प्रस्ताव की आलोचना की थी, जिसमें एच1बी वीजा का एक्सटेंशन रोकने की बात कही गई थी। वीजा नियम कठोर होने से करीब 7.5 लाख भारतीयों को अमेरिका छोड़कर स्वदेश लौटना पड़ सकता था। 



loading...