घाटी के हालात को लेकर गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में गृह मंत्रालय में हाई लेवल मीटिंग जारी, कई अधिकारी मौजूद

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, सरकार का अगला लक्ष्य PoK को वापस लेना है

राज्‍यसभा में गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर आरक्षण विधेयक और राष्‍ट्रपति शासन बढ़ाने का प्रस्ताव किया पेश, विपक्ष ने किया विरोध

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा- धारा 370 कांग्रेस की देन, पूर्व पीएम नेहरु को ठहराया जिम्मेदार

कठुआ रेप केस में 3 आरोपियों को उम्रकैद की सजा, 3 को 5-5 साल की सजा

कठुआ रेप केस: पठानकोट की अदालत ने 6 आरोपियों को दोषी ठहराया, 1 बरी, 4 बजे होगा सजा का ऐलान

जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, टेररिस्ट बने 2 SPO समेत 4 आतंकियों को मार गिराया

2019-08-27_MinitryOfHomeAffairs.jpg

जम्मू और कश्मीर को लेकर गृह मंत्रालय में एक उच्च स्तरीय बैठक हो रही है. इस बैठक में गृहमंत्री अमित शाह और केंद्रीय गृह सचिव एके भल्ला मौजूद हैं. बताया जा रहा है कि इस बैठक में भारत सरकार के सचिव स्तर के अधिकारी भी शामिल हैं. इस बैठक में जम्मू-कश्मीर में परिसीमन के साथ-साथ स्थानीय निकाय चुनाव पर भी चर्चा संभव है.

केंद्रीय मंत्रालय की एक उच्च-स्तरीय टीम मंगलवार को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हालात जानने के लिए पहुंची है. उन्होंने बताया कि मंत्रियों की टीम 27 और 28 अगस्त को श्रीनगर में रहेगी. इसके बाद टीम कारगिल, लेह और जम्मू भी जाएगी. इस दौरान टीम उन क्षेत्रों का दौरा करेगी जहां विकास नहीं हो पाया है.

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय बड़ी पहल करने जा रहा है. इसके लिए खुद केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल के नेतृत्व में मंत्रालय की एक टीम सितम्बर में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की यात्रा पर जाएगी. यह टीम दोनों नवगठित केंद्र शासित क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए योजनाओं को अंतिम रूप देगी.

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि संस्कृति एवं पर्यटन मंत्रालय के दो अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भेज चुके हैं जो उनके वहां पहुंचने से पहले एक ‘एडवांस टीम ’ की तरह काम करेंगे. पटेल सितंबर के पहले सप्ताह में स्थिति का जायजा लेने के लिए लद्दाख और जम्मू-कश्मीर पहुंचेंगे.

केंद्रीय मंत्री पटेल ने कहा कि ई-वीजा और विदेशी पर्यटकों के लिए पहाड़ों की 137 चोटियां खोलने से इस क्षेत्र में पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी और इससे राज्य में राजस्व के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे. इन 137 चोटियों में से 15 जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में हैं.



loading...