मौसम विभाग ने 21 राज्यों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया, केरल में अबतक 26 लोगों की मौत

2018-08-10_HeavyRainfaalAlerts.jpg

मौसम विभाग ने अगले तीन दिन तक 21 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया. उधर, केरल में बाढ़-बारिश से हालात और बिगड़ गए हैं. यहां बीते दो दिनों में 10 हजार लोगों को राहत शिविरों में भेजा गया है. अगले 24 घंटे में और बारिश होने का अनुमान है. राज्य के 24 बांधों के गेट खोले जाने से कई निचले इलाकों में पानी भर गया है. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में गुरुवार देर रात बादल फटने से तीन गांवों में काफी नुकसान हुआ है. राज्य में छह दिन भारी बारिश का अलर्ट है.

उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, झारखंड, बिहार, पश्चिमी बंगाल, सिक्किम, मध्यप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और अंडमान निकोबार द्वीप समूह. केरल में भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन से 26 लोगों की मौत हो चुकी है. आपदा प्रबंधन अधिकारियों के मुताबिक, सबसे ज्यादा इडुक्की जिले में 11 लोगों की जान गई. यहां अब तक 10 हजार लोगों को राहत शिविरों में भेजा जा चुका है. नदियों के उफान पर होने के कारण राज्य के 24 बांध खोल दिए गए. इडुक्की बांध का गेट 26 साल बाद खोला गया. कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने केरल में 10 करोड़ रुपए और राहत सामग्री भेजने के निर्देश दिए.

हिमाचल में खराब मौसम से काफी दिक्कत हो रही है. गुरुवार सुबह धूप खिली, लेकिन दोपहर बाद राजधानी शिमला समेत कई स्थानों पर बारिश हुई. मौसम विभाग ने 10 अगस्त से 15 अगस्त तक लगातार बारिश का अनुमान जताया है. 12 और 13 अगस्त को भारी बारिश की भी चेतावनी जारी की गई. गुरुवार को सबसे ज्यादा बारिश 33 मिलीमीटर भुंतर में हुई. यहां पर 33 मिलीमीटर बारिश हुई. इसके अलावा मनाली में 10.8, मंडी में 8.3 और पालमपुर में 6 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई. बारिश के कारण प्रदेश में करीब 160 सड़कों से संपर्क टूट चुका है. हालांकि एडिशनल डिप्टी कमिश्नर कृष्णलाल शर्मा ने दावा किया है कि 4-5 दिन में सड़कें खोल दी जाएंगी.
बंजार की तीर्थन घाटी में गुरुवार देर रात करीब डेढ़ बजे बादल फटने से नागनी पंचायत के साईरोपा और गहिधार और दाड़ी गांव में भारी नुकसान हुआ. इसमें दो मकान, एक गौशाला बह गई. वहीं, तीन मकानों को भी आंशिक नुकसान पहुंचा. पानी में दो गाय और आठ भेड़-बकरियां बह गईं. मौसम विभाग के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के चलते एक जुलाई से अब तक 112 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके अलावा सरयू नदी में उफान की वजह से पूर्वी उत्तर प्रदेश के करीब 12 गांव बाढ़ की चपेट में हैं. 

मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) की साप्ताहिक रिपोर्ट के अनुसार, दो से आठ अगस्त के दौरान देशभर में औसतन 43.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जिसका सामान्य औसत 64.6 मिलीमीटर है. आईएमडी के अनुसार, देशभर में इस साल दक्षिण पश्चिम मानसून से एक जून से आठ अगस्त तक 474.8 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि सामान्य बारिश 526.7 मिलीमीटर होनी चाहिए. इस प्रकार पूरे सीजन में अब तक सामान्य से 10 फीसदी कम बारिश हुई. गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ और महाराष्ट्र के मराठवाड़ा और विदर्भ के इलाके में सूखे की स्थिति बनी रही. झारखंड और कर्नाटक में भी सूखे के हालात बने हैं. वहीं, बिहार, उत्तर प्रदेश समेत देश के कई इलाकों में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई. अब तक देश के 681 में से 231 जिलों में बीते सप्ताह सामान्य से कम बारिश हुई, जबकि 314 जिलों में सामान्य बारिश दर्ज की गई.



loading...