IAS अफसर प्रदीप कासनी : 34 साल में हुए 71 ट्रांसफर, कल होंगे रिटायर

कांग्रेस को हरियाणा में लगा बड़ा झटका, बीजेपी में शामिल हुए पूर्व सांसद अरविंद शर्मा

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में पीएम मोदी ने कहा- जो ईमानदार है उन्हें चौकीदार पर विश्वास है, जो भ्रष्ट है उन्हें मोदी से कष्ट है

जींद उपचुनाव: जाटलैंड में 52 साल बाद खिला कमल, 12935 वोटों से जीते कृष्ण मिड्ढा, कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला की करारी हार

गुरुग्राम के उलावास में चार मंजिला इमारत गिरी, मलबे में दबे 5 से ज्यादा लोग, राहत बचाव कार्य जारी

बीएसएफ में खराब खाने का आरोप लगाने वाले जवान तेज बहादुर यादव के बेटे ने की आत्महत्या

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में राम रहीम समेत अन्य दोषियों को उम्रकैद की सजा

2018-02-27_pradeepkasni.jpg

ईमानदारी की तो जैसे कोई कद्र ही नहीं आज की दुनिया में. अगर आईएएस अफसर प्रदीप कासनी का मामला गौर करें तो ऐसा ही प्रतीत होता है. हरियाणा के बेहद ईमानदार और तेज-तर्रार माने जाने वाले आईएएस अफसर प्रदीप कासनी 28 फरवरी को रिटायर हो रहे हैं. 34 साल की नौकरी में उनके 71 ट्रान्सफर हुए. उन्हें छह महीने से सैलरी भी नहीं मिली है. ऐसा इसलिए, क्योंकि वे लैंड यूज बोर्ड के ओएसडी पद से रिटायर हो रहे हैं और सरकार के रिकार्ड में उस पद का कोई वजूद ही नहीं है.

कासनी ने इसके विरोध में सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया है. उनकी इस अपील पर 8 मार्च को निर्णय आना है. कासनी को लैंड यूज बोर्ड में तबादले के बाद जब बैठने के लिए कार्यालय और काम करने के लिए फाइलें और स्टाफ नहीं मिला तो उन्होंने बोर्ड के बारे में सरकार से पूछा. जवाब नहीं मिलने पर उन्होंने RTIआरटीआई लगाई. तब सरकार ने माना कि लैंड यूज बोर्ड 2008 से वजूद में ही नहीं है.

1980 बैच के एचसीएस के अफसर कासनी 1997 में आईएएस बने थे. उन्होंने हरियाणा सरकार के साथ 1984 में अपनी सेवाएं शुरू की थीं. 

प्रदीप कासनी के सितम्बर 2016 में एक महीने के अंदर 3 बार कासनी हुए. तब भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की सरकार थी. अक्टूबर 2015 में खट्टर सरकार आने के बाद कासनी को अहम पदों पर तैनाती की उम्मीद थी, परन्तु गुड़गांव मंडल कमिश्नर की तैनाती के बाद यह उम्मीद टूट गई.

उनकी पत्नी नीलम प्रदीप कासनी हरियाणा के राज्यपाल की एडीसी रह चुकी हैं और पिछले साल ही रिटायर हुई हैं.



loading...