हरियाणा: खट्टर सरकार का नया फरमान, सांसदों व विधायकों को खड़े होकर सम्मान दें अधिकारी

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में पीएम मोदी ने कहा- जो ईमानदार है उन्हें चौकीदार पर विश्वास है, जो भ्रष्ट है उन्हें मोदी से कष्ट है

जींद उपचुनाव: जाटलैंड में 52 साल बाद खिला कमल, 12935 वोटों से जीते कृष्ण मिड्ढा, कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला की करारी हार

गुरुग्राम के उलावास में चार मंजिला इमारत गिरी, मलबे में दबे 5 से ज्यादा लोग, राहत बचाव कार्य जारी

बीएसएफ में खराब खाने का आरोप लगाने वाले जवान तेज बहादुर यादव के बेटे ने की आत्महत्या

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में राम रहीम समेत अन्य दोषियों को उम्रकैद की सजा

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में राम रहीम समेत अन्य दोषियों को आज सुनाई जाएगी सजा, हरियाणा-पंजाब में बढ़ाई गई सुरक्षा

2018-06-19_manoharlalkhattar.jpg

हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार का एक और फैसला चर्चा का विषय बन रहा है. राज्य सरकार का आदेश है कि जब भी कोई सांसद या विधायक दौरे पर आए तो अधिकारियों को खड़े होकर उनका स्वागत करना चाहिए. सरकार के इस सर्कुलर की पुष्टि कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने भी की. जारी किये गये इस सर्कुलर में कहा गया है कि जब भी कोई माननीय सांसद दौरे पर आएं तो अधिकारियों को उनका सम्मान करना चाहिए. इसके अलावा अगर सांसद अपॉइनमैंट लेकर आते हैं तो पहले से ही उनके लिए सभी तैयारियों को किया जाए. 

2011 में जारी की गई गाइडलाइंस का हवाला देते हुए सरकार ने कहा है कि कई सांसदों ने उनसे शिकायत की है. जिसमें कहा गया है कि अधिकारी उनका सहयोग नहीं कर रहे हैं. बता दें कि अपने कार्यकाल के दौरान खट्टर सरकार के कई ऐसे फैसले सामने आते रहे हैं. जिससे विवाद खड़ा हुआ है.

अभी हाल ही में बीजेपी सरकार ने एक आदेश दिया था कि राज्य से आने वाले खिलाड़ियों को विज्ञापनों और प्रोफेशनल स्पोर्ट के जरिए जो कमाई होती है उसका 33 फीसदी हिस्सा हरियाणा स्पोर्ट्स काउंसिल में जमा करवानी होगी. सरकार का कहना है कि इसका इस्तेमाल राज्य में खेल के विकास पर खर्च होगा. इसके अलावा आदेश में कहा गया है कि खिलाड़ियों को जो नौकरी मिली है, उसमें अब छुट्टी लेने पर भी उनकी तनख्वाह कटेगी. 



loading...