आज है हरतालिका तीज, जानिए पूजा करने का क्या है शुभ मुहूर्त, इन मंत्रो का करें जाप

2018-09-12_hartalikateej.jpg

देश में आज 12 सितंबर 2018 को हरतालिका तीज का पर्व मनाया जा रहा है. महाराष्ट्र और उत्तर भारत के कई राज्यों में इसे हरतालिका तीज के नाम से जानते हैं और दक्षिण भारतीय राज्यों में इसे गौरी हब्बा के नाम से जानते हैं. इस व्रत को विवाहित और अविवाहित लड़कियां कर सकती हैं. विवाहित महिलाएं जहां अपने पति की लंबी आयु के लिए यह व्रत रखती हैं, वहीं कुंवारी लड़कियां अच्छा और मनचाहा वर प्राप्त करने के लिए व्रत रखती हैं.

हरतालिका तीज की पूजा 12 सितंबर की शाम को 4:07 बजे तक सम्पन्न की जा सकती है. दोपहर 12 से 1:30 बजे तक राहुकाल का समय है, इसलिए इस समय पूजा नहीं होगी. शाम 4:07 बजे के बाद चतुर्थी तिथि लग जाएगी. इसलिए पूजन तृतीया तिथी में ही करना उचित होगा.

तृतीया तिथि 12 सितंबर को ही बदल जाएगी. शाम 4:07 बजे चतुर्थी तिथि लग जाएगी. ऐसे में आप हरतालिका तीज का पारण 13 सितंबर की सुबह किसी भी समय कर सकते हैं. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि पारण दोपहर होने से पहले ही करना होगा.

पूजन विधि 
हरितालिका तीज के दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती है. इस दिन शंकर-पार्वती की बालू या मिट्टी की मूति बनाकर पूजन किया जाता है. घर साफ-सफाई कर तोरण-मंडप आदि सजाया जाता है. आप एक पवित्र चौकी पर शुद्ध मिट्टी में गंगाजल मिलाकर शिलिंग, रिद्धि-सिद्धि सहित गणेश, पार्वती व उनकी सखी की आकृति बनाएं. इसके बाद देवताओं का आवाहन कर पूजन करें. इस व्रत का पूजन पूरी रात किया जाता है. प्रत्येक पहर में भगवान शंकर का पूजन व आरती होती है.

तीज के दिन किस विशेष मंत्र का जाप करें?

तीज के दिन विवाह संबंधी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए इस मंत्र का श्रद्धा पूर्वक 11 माला जाप करें.
मंत्र का जाप रुद्राक्ष की माला से करें, और सम्पूर्ण श्रृंगार करके ही मंत्र का जाप करें.
संध्याकाल को मंत्र जाप करना सर्वोत्तम होगा.
मंत्र होगा- हे गौरीशंकर अर्धांगी, यथा त्वां शंकर प्रिया। तथा माम कुरु कल्याणी, कान्तकांता सुदुर्लभाम
इस मंत्र के जाप से मनचाहे और योग्य वर की प्राप्ति होती है.



loading...