ताज़ा खबर

गुजरात चुनाव: हार्दिक-अल्पेश-जिग्नेश भी कांग्रेस को सत्ता तक नहीं पहुंचा पा रहे, फेल हुई तिकड़ी

Vibrant Gujarat Summit में मुकेश अंबानी ने प्रधानमंत्री मोदी से ‘डाटा के औपनिवेशीकरण' के खिलाफ कदम उठाने का किया आग्रह

वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत को टॉप 50 में पहुंचाने का लक्ष्य

गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के विधेयक पर योगी कैबिनेट की मुहर, सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण होगा लागू

गुजरात: चलती ट्रेन में बीजेपी के पूर्व विधायक जयंती भानुशाली की बदमाशों ने गोली मारकर की हत्या

सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले में सभी 22 आरोपी बरी, गवाहों के मुकरने पर जज बोले- मैं लाचार हूं

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर बोला हमला, कहा- असम-गुजरात के मुख्यमंत्रियों को जगा दिया है अभी प्रधानमंत्री सो रहे हैं

2017-12-18_Hardik-patel-Alpesh-N-jignesh.jpg

कांग्रेस ने गुजरात में सत्ता में वापसी करने के‌ लिए वहां के विभिन्न वर्गों के युवा नेता हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर का सहारा लिया है। लेकिन चुनाव परिणाम के रूझानों के बाद यह स्पष्ट हो रहा है कि गुजरात में भाजपा और पीएम नरेंद्र मोदी की सत्ता बरकरार रहने वाली है। हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेघाणी और अल्पेश ठाकोर की तिकड़ी भी कांग्रेस की सत्ता में वापसी का रास्ता नहीं खोल पा रही है। 

ताजा चुनावी रुझान बता रहे हैं कि पटेल बाहुल्य सीटों पर भाजपा का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है। हार्दिक पटेल के लिए यह अच्छे संकेत नहीं है। हालांकि दो युवा नेता अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी अपनी-अपनी सीटों पर आगे चल रहे हैं। 

हार्दिक पटेल गुजरात में पाटीदार समुदाय के एक बड़े नेता है। अल्पेश ठाकोर की पहचान राज्य में सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता की है। वहीं जिग्नेश मेवाणी दलित समुदाय से ताल्लुकात रखते हैं। तीनों की मदद के जरिए कांग्रेस ने राज्य में सत्ता के समीकरण नए सिरे से बनाने की कोशिश की थी लेकिन कांग्रेस का यह प्रयास नाकाम होता दिख रहा है। 

40 वर्षीय अल्पेश ठाकोर राज्य की बड़ी सीटों में शामिल राधानपुर क्षेत्र से फिलहाल आगे चल रहे हैं। 35 वर्षीय जिग्नेश मेवाणी भी वडगाम विधानसभा क्षेत्र से आगे चल रहे हैं। यहां कांग्रेस ने मेवाणी के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था। वहीं आम आदमी पार्टी ने भी मेवाणी का समर्थन किया था। 

ताजा रुझाान के मुताबिक गुजरात में भाजपा 102 सीटों पर आगे चल रही है। वहीं कांग्रेस और उसके सहयोगी 78 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। गुजरात में कुल 182 विधानसभा सीटे हैं। बहुमत के लिए 92 सीटों की जरूरत है।  भाजपा को राज्य में दक्षिण भाग में काफी सफलता मिलती दिख रही है। आदिवासी क्षेत्रों में भी भाजपा को मजबूत समर्थन मिलता दिख रहा है।



loading...